Home लखनऊ यूपी-100 की गाड़ियों में तैनात होंगी महिला पुलिसकर्मी, रात को मिलेगी कैब...

यूपी-100 की गाड़ियों में तैनात होंगी महिला पुलिसकर्मी, रात को मिलेगी कैब सेवा

1111
0
SHARE

लखनऊ | यूपी-100 की गाड़ियों में अब महिला पुलिसकर्मी भी तैनात की जाएंगी। महिला पीड़िता द्वारा कंट्रोल रूम पर फोन करके मदद मांगे जाने पर महिला पुलिसकर्मी मौके पर पहुंच कर उसकी समस्या का समाधान करेंगी। इससे शिकायकर्ता महिला सहज होकर अपनी बात रख सकेगी। यह बात डीजीपी ओपी सिंह ने कही।
डीजीपी बुधवार को रिजर्व पुलिस लाइन में आयोजित ‘महिला सम्मान’ समारोह में शिरकत करने पहुंचे थे। इस दौरान डीजीपी ने उत्कृष्ण कार्य करने वाली लखनऊ जनपद की 15 महिला पुलिस कर्मियों को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इससे पूर्व डीजीपी ने प्रदेश के सभी थानों में महिला दिवस के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित करने का आदेश जारी किया था।

भोजपुरी सुपर स्टार पवन सिंह ने लिए सात फेरे, जानिए दुल्हन के बारे में
डीजीपी ने पुलिस लाइन पहुंच कर महिला पुलिस कर्मियों से सीधा संवाद किया। इस दौरान उन्होंने महिला कर्मिचारियों से ड्यूटी के दौरान उन्हें होने वाली समस्याएं भी सुनीं। एक महिला सिपाही ने डीजीपी को बताया कि थानों में महिलाओं के लिए शौचालय की अलग व्यवस्था नहीं है, इससे खासी परेशानी होती है।
इस पर डीजीपी ने एसएसपी दीपक कुमार को निर्देशित किया कि जल्द से जल्द जनपद के सभी थानों में महिला पुलिस कर्मियों के लिए अलग शौचालय का प्रबंध करवाएं।

अवैध संबंधों में रोड़ा बन रही बेटी की मां ने ही की थी हत्या
रात को मिलेगी कैब सेवा
एक महिला पुलिस कर्मी ने समस्या बताई कि कई बार जरूरत पड़ने पर रात के वक्त ड्यूटी पर बुला लिया जाता है। वाहन न होने से उन्हें थाने पहुंचने में खासी दिक्कत होती है, इससे देर भी हो जाती है। इस पर डीजीपी ने कहा कि रात के वक्त ड्यूटी पर बुलाए जाने पर महिला पुलिस कर्मियों को कैब सेवा मुहैय्या कराई जाए। डीजीपी ने कहा कि संबंधित थानाध्यक्ष की यह जिम्मेदारी होगी कि वह महिला पुलिस कर्मियों के लिए वाहन की व्यवस्था करें।

डीसीएम की टक्कर से छात्र की मौत, बेकाबू भीड़ पर लाठीचार्ज
महिला कर्मियों को मिले आवास
डीजीपी से संवाद के दौरान एक महिला सिपाही ने आवास की समस्या रखी। महिला कर्मियों ने कहा कि आवास की संख्या कम है। ऐसे में उन्हें आवास आवंटित नहीं हो पाते हैं। वक्त-बे-वक्त ड्यूटी के चलते उन्हें आसानी से किराये का मकान नहीं मिलता है। इस पर डीजीपी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि महिला पुलिस कर्मियों को आवश्यक रूप से आवास मुहैय्या कराया जाए।

ट्रेन से दो टुकड़ों में बंटा शरीर, जिन्दा होकर बताया पुलिसवालों को परिचय, देखें विडियो
पीड़िताओं को न्याय दिलाना आपका जिम्मा: डीजीपी
डीजीपी ने महिला पुलिस कर्मियों का उत्साह बढ़ाते हुए कहा कि आप विभाग की मुख्य धारा में हैं। मौजूदा परिवेष में महिला अपराध बेहद संवेदनशील मुद्दा है। ऐसे में महिलाओं को जागरूक करने और पीड़िताओं को शत प्रतिशत न्याय दिलाने की जिम्मेदारी आपके कंधों पर है। डीजीपी ने महिला पुलिस कर्मियों से कहा कि वह महिलाओं को कानून के बारे में बताएं। किसी भी वर्ग की शोषित महिला को वूमन पावर लाइन, महिला हेल्पलाइन का नंबर देने के साथ उनकी शिकायत दर्ज करवाएं।

बाइक लूटकर भाग रहे बदमाशों की पुलिस से मुठभेड़, सिपाही घायल
बैण्ड से हुआ स्वागत
पुलिस लाइन पहुंचे डीजीपी ओपी सिंह की एसएसपी दीपक कुमार ने अगुवानी की। इस दौरान पुलिस बैण्ड ने गाजे-बाजे की धुन से उनका स्वागत किया। पत्रकारों से बातचीत के दौरान डीजीपी ने कहा कि यूपी-100 के पीआरवी व्हीकल में पुरुष पुलिस कर्मियों की ही ड्यूटी लगती है। पुरुष पुलिस वालों के पहुंचने से कई बार महिला शिकायतकर्ता उनसे बात करने में असहज महसूस करती हैं। लिहाजा अब यूपी-100 की गाड़ियों में महिला पुलिस कर्मियों की भी ड्यूटी लगाई जाएगी।

देवरिया जनपद में बारात की कार पेड़ से टकराई, चार लोगों की मौत
इनको मिला सम्मान
1. चौक कोतवाली की कांस्टेबल मंजू श्रीवास्तव: चोरों को पकड़ने में सहयोग, पोस्टमार्टम और शांति व्यव्स्था ड्यूटी में सहयोग करना।
2. कैसरबाग कोतवाली की कांस्टेबल संगीता यादव: धरना प्रदर्शन ड्यूटी एवं शांति व्यवस्था ड्यूटी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना।
3. आलमबाग कोतवाली की सब इंस्पेक्टर उमा शर्मा: धरना प्रदर्शन और शांति व्यवस्था ड्यूटी में अहम भूमिका निभाना। महिला आगंतुकों से विनम्र व्यवहार करना।
4. हजरतगंज कोतवाली की कांस्टेबल शिवकुमारी देवी: विधानभवन के पास होने वाले धरना प्रदर्शन और जनता के कुछ व्यक्तियों द्वारा अपनी मांग मनवाने के लिए किए जाने वाले आत्मदाह को विफल करके उनकी जान बचाना।
5. बाजारखाला कोतवाली की सब इंस्पेक्टर गुरप्रीत कौर: मोहर्रम जुलूस के दौरान पूरी लगन से ड्यूटी करते हुए कानून व्यव्स्था बनाए रखी।
6. सरोजनीनगर थाने की कांस्टेबल ममता: कैंसर की शिकार गैंगरेप पीड़िता का मेडिकल करवाने के साथ आरोपियों की गिरफ्तारी में विशेष सहयोग प्रदान किया।
7. आशियाना थाने की सब इंस्पेक्टर वंदना पाण्डेय: वर्ष 2017 में गाजियाबाद में हुए 63वें उत्तर प्रदेश पुलिस भारत्तोलन प्रतियोगिता में 70 किलोग्राम भार वर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया। महिला अपराध की विवेचनाओं और अपहृत महिलाओं की बरामदगी में उत्कृष्ण कार्य किया।
8. इंदिरानगर थाने की कांस्टेबल सोनम: थाने के कार्य में रुचि लेना और महिला पीड़ितों का शीघ्र मेडिकल करवाना।
9. मलिहाबाद कोतवाली की कांस्टेबल नीतू सिंह: थाने के कार्य में विशेष रुचि लेना व महिला पीड़ितों का शीघ्र मेडिकल परीक्षण करवाना।
10. बीकेटी थाने की कांस्टेबल प्रिया दुबे: थाने में उपस्थित रहकर काम में रुचि लेना और शांति व्यवस्था बनाए रखने में विशेष योगदान देना।
11. विकासनगर थाने की कांस्टेबल पूनम: फरवरी 2018 में मामा चौराहा स्थित झुग्गी बस्ती से गायब हुई दो नाबालिग बहनों को 24 घंटे के अंदर सकुशल बरामद किया।
12. गोमतीनगर थाने की कांस्टेबल इन्द्रेश: महाराष्ट्र प्रान्त की गुमशुदा महिला की बरामदगी में विशेष सहयोग करना। रात के समय दबिश देकर अपराधियों की धर-पकड़ करना।
13. मोहनलालगंज कोतवाली की कांस्टेबल वेदमती चौधरी: महिला आगंतुकों से विनम्र व्यवहार करना और कानून व्यवस्था ड्यूटी में विशेष रूप से सहयोग करना।
14. मड़ियांव थाने की कांस्टेबल साक्षी: थाने के काम में रुचि लेना और महिला आगंतुकों से विनम्रता से पेश आना।
15. महिला थाने की सब इंस्पेक्टर सुनीता वर्मा: महिला उत्पीड़न सम्बंधी विवेचना में महत्वपूर्ण सहयोग करना और कानून व्यवस्था ड्यूटी पूरी लगन से सम्पादित कराना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here