Home प्रदेश टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन पर उन्नाव के सीएमओ हटाए गए, सीएचसी...

टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन पर उन्नाव के सीएमओ हटाए गए, सीएचसी प्रभारी निलंबित

786
0
SHARE

उन्नाव। नवाबगंज सीएचसी में टार्च की रोशनी में आंख का ऑपरेशन और मरीजों को जमीन पर लिटाने के मामले में शासन ने सीएचसी अधीक्षक डॉ. देवेश दास को निलंबित करने के साथ सीएमओ डॉ. राजेंद्र प्रसाद को हटा दिया। डॉ. शैलेंद्र कुमार को उन्नाव का नया सीएमओ बनाया गया है। अंधता निवारण कार्यक्रम के तहत सोमवार को नवाबगंज सीएचसी में एनजीओ ओम जगदंबा सेवा समिति की ओर से आंखों के ऑपरेशन के लिए शिविर लगाया गया था। शिविर में ऑपरेशन के लिए 36 मरीज चिह्नित किए गए थे। देर रात कानपुर से आए डॉक्टर नूतन श्रीवास्तव ने सीएचसी में 32 मरीजों का ऑपरेशन किया।

डॉक्टर ने टॉर्च की रोशनी में कर डाले अांखों के ऑपरेशन
बिजली बिजली चले जाने से टार्च की रोशनी में आखों का ऑपरेशन किया। बेड कम पड़ने पर मरीजों को जमीन पर ही लिटा दिया गया। मंगलवार सुबह मामला जानकारी में आते ही संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य अवधेश यादव, एसडीएम हसनगंज मनीष बंसल, सीएमओ डॉ. राजेंद्र प्रसाद, एसीएमओ डॉ. आरके गौतम, नोडल अधिकारी डॉ. अर्जुन सारंग व डॉ. नरेंद्र सिंह जांच के लिए नवाबगंज सीएचसी पहुंच गए।

अवैध खनन के सबूत देख दंग रह गए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक

जांच में अधिकारियों को पता चला कि ऑपरेशन के दौरान रोशनी के लिए कोई प्रबंध नहीं किए गए थे। सीएचसी के जनरेटर के संबंध में चिकित्सा प्रभारी कोई जानकारी नहीं दे सके। संयुक्त निदेशक व एसडीएम ने सीएचसी स्टाफ के बयान दर्ज किए। डीएम ने पूरे मामले से शासन को अवगत कराया जिस सीएमओ को तत्काल जिले से हटाने और सीएचसी प्रभारी के निलंबन के आदेश जारी कर दिए गए।

महिला ने चौकी में दरोगा को जड़े थप्पड़, दरोगा ने उसे गिरा कर पीटा
यह था मामला
नवाबगंज सीएचसी में सोमवार देररात टार्च की रोशनी में मरीजों के आंख के ऑपरेशन किए गए। मरीजों को कानपुर की एक एनजीओ लेकर आई थी। दो दर्जन से ज्यादा मरीजों के ऑपरेशन की जानकारी न तो सीएचसी अधीक्षक को दी गई न ही इमरजेंसी में तैनात डॉक्टर को। रात में पूछे जाने पर सीएचसी अधीक्षक देवेशदास ने बताया कि उन्हें जानकारी नहीं है।

‘अपनों’ के चलते ही गुमनामी में चले गए अटल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here