Home उत्तर प्रदेश SDM मलिहाबाद के संरक्षण में चल रहा तहसील परिसर अवैध स्टैंड

SDM मलिहाबाद के संरक्षण में चल रहा तहसील परिसर अवैध स्टैंड

555
0
SHARE

लखनऊ। राजधानी के मलिहाबाद तहसील में अराजकता का माहौल बरकरार है। यहां अवैध रूप से तहसील परिसर के अंदर स्टैंड चल रहा है। जहां पीड़ितों को बाइक खड़ी करने के लिए 10 रुपये और साइकिल खड़ी करने के लिए 5 रुपये व कार पार्क करने के लिए 20 रुपये देना पड़ता है। विदित हो कि इस बात की जानकारी तहसील के अधिकारियों को भी है उसके बावजूद भी उनका कहना है कि यहां स्टैंड लगने से आए हुए फरियादियों का फ़ायदा है लेकिन इस बात का जवाब देने वाला कोई नहीं है कि इस स्टैंड का टेंडर कब हुआ था और किस कंपनी के हाथ में दिया गया है व इस स्टैंड का ठेका कब समाप्त हो रहा है। इस स्टैंड पर मिलने वाली पर्ची पर किसी प्रकार की तहसील से संबंधित कोई मोहर नहीं है जिससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह स्टैंड अवैध रूप से चल रहा है। जिसका सारा पैसा तहसील के अधिकारियों की जेब में जा रहा है।
इस संबंध में जब SDM जयप्रकाश से बात की गई, तो उन्होंने बताया कि मैं जहां भी रहा हूं वहां स्टैंड लगवाता था। स्टैंड लगवाने से राजस्व का फायदा होता है। पर कोई SDM महोदय को भी तो बताएं कि उनके परिसर में आने वाला व्यक्ति पहले से ही पीड़ित होता है और पीड़ितों से ही पैसा वसूलना कहां का न्याय है। जबकि तहसील परिसर के सामने मलिहाबाद थाना है और मलिहाबाद थाने के बगल में मलिहाबाद सीओ का कार्यालय है। तहसील परिसर के सामने पुलिस की मौजूदगी होने के बावजूद भी तहसील परिसर के अंदर स्टैंड लगाना पीडितों के लिए दुःखद है| पीड़ित व्यक्ति लेखपाल, तहसीलदार व कानूनगो के चक्कर लगाते-लगाते वह अपने लाखों रुपए वारे-न्यारे कर देता है। उसके बाद अब रोजाना का स्टैंड खर्च ने अतिरिक्त बोझ बढ़ा दिया है।
इस संबंध में डीएम लखनऊ कौशल राज किशोर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं है कि तहसील परिसर में स्टैंड लगवाया गया है। इस बात की जानकारी आप SDM मलिहाबाद जयप्रकाश से ही करिए। लेकिन सोचने वाली बात यह है कि अगर शहर में तैनात हर अधिकारी अपने परिसर के अंदर स्टैंड लगवा लेगा तो फरियादी क्या रोजाना आकर स्टैंड में बाइक व कार जमा कराकर अपनी फरियाद सुनाएगा और राजस्व बढ़ाना ही है तो क्या परिसर के अंदर स्टैंड लगवाकर ज्यादा राजस्व बढ़ाए जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here