Home लखनऊ सरकारी तालाब का आवंटन के बाद भी नहीं दिला पा रहा तहसील...

सरकारी तालाब का आवंटन के बाद भी नहीं दिला पा रहा तहसील प्रशासन कब्जा

88
0
SHARE

एसडीएम चंदन पटेल द्वारा किया गया पीड़ित रामकुमार को सरकारी तालाब का आवंटन
दबंग रंजीत पुत्र रामआसरे, कुंवारे पुत्र जागेश्वर, सोहन लाल पुत्र राम भरोसे, भगवती पुत्र दर्शन लाल निवासी ग्राम सेंवई ने किया अवैध कब्जा
लखनऊ | सरोजनीनगर तहसील दबंगों व भू माफियाओं के आगे नतमस्तक| लगातार पीड़ितों की शिकायत के बावजूद भी तहसील प्रशासन उनकी जमीन व तहसील प्रशासन द्वारा की गई आवंटित जमीन व तालाबों पर कब्जा नहीं दिला पा रहा| वहीं गुपचुप तरीके से अधिकारी पीड़ितों से ही अपनी सेटिंग बनाने में लगे हुए हैं|
विदित हो कि कुछ माह पहले मत्स्य पालन हेतु सरोजनी नगर तहसील द्वारा पीड़ित राम कुमार को एक तालाब का आवंटन किया गया था| पीड़ित ने तालाब का पट्टा कराते हुए सरकारी लगान भी जमा कर दिया| उसके बावजूद भी पीड़ित तालाब पर पूर्ण रूप से काबीज नहीं हो पा रहा| पीड़ित ने तहसील प्रशासन पर आरोप लगाते हुए बताया कि तालाब पर पहले से ही कुछ भूमाफिया काबीज है जो तालाब को खाली नहीं कर रहे| सरकारी लगान जमा करने के बावजूद भी उन्होंने कई बार इस संबंध में तहसील प्रशासन को शिकायती पत्र दिया| लेकिन तहसील प्रशासन दबंगों के आगे नतमस्तक होते हुए सरकारी तालाब पर काबिज भू माफियाओं से तालाब खाली नहीं करा पा रहा| इस संबंध में पीड़ित ने थाना पीजीआई सहित तहसीलदार व एसडीएम चंदन पटेल को भी शिकायत पत्र दिया| लेकिन आज तक उन भू माफियाओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई|
लखनऊ के ग्राम सेवई तहसील सरोजनी नगर निवासी राम कुमार पुत्र राम लखन ने बताया कि मेरे नाम एक किता तालाब खसरा संख्या 282, खाेदउवा सेंवई में जिसका क्षेत्रफल 1.379 हे० दिनाँक 17/05/2018 को एसडीएम सरोजनी नगर के द्वारा मत्स्य पालन हेतु आवंटित किया गया| जिसमें पीड़ित ने मौजूदा समय में मछली पाल रखी है| जिसको रंजीत पुत्र रामआसरे, कुँवारे पुत्र जागेस्वर,सोहन लाल पुत्र राम भरोसे, भगौती पुत्र दर्शन लाल निवासी ग्राम सेंवई ने दबंगई के बल पर अवैध कब्जा कर लिया और मेरी गैर हाजिरी में सिंघाड़े लगा लिए और जब उसने सभी लोगों को मना किया तो दबंग लोग मारपीट पर आमादा हो गए| पीड़ित ने यह भी बताया कि दबंगों की संख्या बल ज्यादा होने की वजह से बात-बात पर मारपीट करने व जान से मारने की धमकी देते हैं| दबंगों द्वारा अवैध रूप से लगाए गए सिंघाड़ा में जहरीली दवाई डाली गई| जिसके कारण तालाब में पाली हुई कुछ मछलियां मर चुकी हैं| राम कुमार द्वारा इस संबंध में तहसील प्रशासन को कई बार शिकायत ही पत्र दिया गया| उसके बावजूद भी तहसील प्रशासन दबंगों से मिलीभगत कर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया है| अब देखना यह है कि पीड़ित को सरकारी तालाब का पट्टा करने व लगान जमा करने के बावजूद भी सरकार व प्रशासन के अधिकारियों द्वारा न्याय मिल पाता है या नहीं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here