Home क्राइम क्राइम ब्रांच टीम भी पुराने मामलों में खुलासा करने में फिसड्डी

क्राइम ब्रांच टीम भी पुराने मामलों में खुलासा करने में फिसड्डी

340
0
SHARE

लखनऊ। गंभीर अपराधों पर नियंत्रण के लिए बनाई गई क्राइम ब्रांच टीम भी पुराने मामलों में खुलासा करने में फिसड्डी साबित हो रही है। जबकि एसपी क्राइम का कहना है कि जिन मामलों में उनकी टीम को लगाया गया है। उसकी जवाबदेही उनकी नहीं बनती संबंधित क्षेत्राधिकारी व एडिशनल एसपी उसका जवाब देंगे।
21 जनवरी को गोसाईगंज थाना क्षेत्र में इकाना स्टेडियम के पास अज्ञात हत्यारों द्वारा महिला की हत्या कर उसके शव को सूटकेस में भर कर सड़क के किनारे झाड़ियों में फेंक कर फरार हो गए थे। घटना के 10 दिन बीतने के बाद भी क्राइम ब्रांच की टीम उन हत्यारों तक नहीं पहुंच पाई है। वहीं 22 जनवरी को आलमबाग में रेलवे ठेकेदार को बाइक सवार बदमाशों ने सरेराह 4 गोलियां मार कर उन्हें घायल कर दिया था। घटना के बाद से आज भी इलाके में दहशत का माहौल है। जबकि 25 जनवरी को रेलवे ठेकेदार दिलीप यादव की इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इन दोनों घटनाओं में एसएसपी कलानिधि द्वारा क्राइम ब्रांच की टीम को लगाया गया था। लेकिन घटना के 11 दिन बीतने के बाद भी क्राइम ब्रांच किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। वहीं के जिम्मेदार अधिकारी एसपी दिनेश कुमार सिंह भी मीडिया के सवालों का सही जवाब नहीं देते। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार काकोरी, ठाकुरगंज, पारा व सरोजिनी नगर में क्राइम ब्रांच टीम का अवैध सीमेंट कारोबार, पेड़ कटान, अवैध खनन व टैंकरों से होने वाली पेट्रोल व डीजल चोरी के कारोबार में उनका हिस्सा बंधा हुआ है। जबकि जघन्य अपराधों में क्राइम ब्रांच टीम फिसड्डी साबित हो रही है। अब देखना यह है कि इन दोनों घटनाओं में पीड़ित परिवारों को कब तक न्याय मिल पाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here