Home प्रदेश करेले की सब्जी पसंद न आने पर की, मां-बाप की चाकू से...

करेले की सब्जी पसंद न आने पर की, मां-बाप की चाकू से गोद कर हत्या

1110
0
SHARE

पुणे। पुणे में एक दिल दहला देने वाली घटना घटी है, अपने मां-बाप की हत्या करने के बाद बेटा शांती से बिस्तर पर जाकर सो गया। इस घटना से परिसर के लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। माता-पिता को बेटे ने बहुत ही दर्दनाक और बेरहमी से मौत दी। पिता का चाकू से गला चीरकर और बीच बचाव करनेवाली मां का रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी।

सेना को राजनीति में उलझाने की जरूरत नहीं : जनरल बिपिन रावत

ताजुब की बात है कि दूसरे कमरे में आरोपी का जुड़वा भाई अपनी पत्नी और बेटी के साथ चैन की नींद सो रहे थे। उन्हें इस घटना का जरा भी अंदाजा नहीं हुआ, सुबह उठने के बाद घर में खून दिखने के बाद इस घटना का खुलासा हुआ। पुलिस द्वारा दी गई जानकारी मुताबिक इस घटना में प्रकाश क्षीरसागर (60) और आशा क्षीरसागर (55) की उनके ही बेटे ने हत्या कर दी। इस मामले में पुलिस ने पराग क्षीरसागर को गिरफ्तार किया है। प्रकाश और आशा क्षीरसागर के दो बेटें हैं, जो जुड़वा हैं।

शादी का झांसा देकर फौजी ने किया यौन शोषण
घर में किसी को नहीं चला पता
पराग और प्रतीक उनके जुड़वा बच्चे हैं। पराग का उसके माता पिता के साथ रोज ही झगड़ा हुआ करता था। पराग एक इंजीनियर है, पर वो फिलहाल कहीं भी जॉब नहीं कर रहा था। पराग को शराब की काफी लत थी, वो रोज शराब पीकर आता था और घर पर नशे की हालत में रोज घरवालों से झगड़ा किया करता था। पराग का दूसरा भाई प्रतीक की शादीशुदा है और उसकी एक डेढ़ साल की बेटी है। प्रतीक के माता पिता के साथ अच्छे संबंध थे, पर पराग का हमेशा झगड़ा हुआ करता था। पराग की शादी भी नहीं हो रही थी और वो जॉब भी नहीं करता था, दिन भर बेकार घूमता रहता था। उसके बेकार घूमने और जॉब नहीं करने की वजह से माता पिता के साथ उसका हमेशा झगड़ा हुआ करता था।

गाजियाबाद हमला के बाद मेरठ में एनआईए-एटीएस ने डाला डेरा
सुबह खून देखकर उड़ गए सबके होश
पराग उच्चशिक्षित और अच्छी फैमिली से था, लेकिन गलत संगत की वजह से नशे का आदी हो चुका था। नशे में वो सोसायटी के लोगों से भी कभी भी झगड़ा कर लिया करता था। जिसकी वजह से सोसायटी के लोग भी हमेशा इस फैमिली से दूरी बनाए रखते थे, उनके घर में सोसायटी के किसी का भी आना जाना नहीं होता था। पराग दुबई और बाकी देशों में भी नौकरी करके वापस भारत लौटा था। उसके खराब बर्ताव की वजह से हमेशा उसे नौकरी से निकाल दिया जाता था। 6 महीने से वो घर पर बेकार बैठा हुआ था, पैसों को लेकर बाप बेटे में हमेशा झगड़ा हुआ करता था, पिता हमेशा पराग को नौकरी करने और कमाने के लिए कहते थे। बाप और बेटे के झगड़े में मां हमेशा बीच बचाव किया करती थी। घटना वाले दिन भी पराग का माता पिता के साथ काफी झगड़ा हुआ था। यह झगड़ा हमेशा होता है, ऐसा सोचकर दूसरा बेटा अपनी पत्नी और बच्ची के साथ दरवाजा लगाकर सो रहे थे।

कार चालक ने बाइक सवार मां-बेटी को कुचला, मौत
बेटे ने ही मां-बाप को दी बेरहम मौ
पराग इतने गुस्सा में था कि उसने अपने पिता का चाकू से गला चीर डाला और बीच बचाव करनेवाली मां का रस्सी से गला घोंटकर मार दिया। दोनों की हत्या करने के बाद खून से सने हाथों को लेकर बिस्तर पर आराम से जाकर सो गया। सोसायटी में रहनेवाले नागरिकों ने बताया कि पराग का उसके माता पिता के साथ हमेशा झगड़ा हुआ करता था, वो बहुत ही चिड़चिड़ा स्वभाव का था। दिन भर नशे में ही धुत रहता था और काम पर भी नहीं जाता था। सोसायटी में आए दिन उनके झगड़े की आवाज आती थी। मृतकों की बहू जब सुबह सोकर उठी तो उसने फर्श पर खून ही खून देखा, उसने तुरंत पति और पड़ोसी को जाकर इस बात की जानकारी दी।
अपराधियों के हौसले बुलंद, गश्त के दरोगा को मारी गोली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here