Home लखनऊ सिविल अस्पताल में डाक्टर और एसीएम में झड़प, अस्पताल में रही घंटों...

सिविल अस्पताल में डाक्टर और एसीएम में झड़प, अस्पताल में रही घंटों अफरातफरी

1324
0
SHARE

लखनऊ। सिविल अस्पताल में बुधवार की सुबह करीब साढ़े दस बजे एसीएम चतुर्थ अमित कुमार और इमरजेंसी मेडिकल आफिसर डा. एस अली में देर तक झड़प हुई। विवाद बढ़ने पर एसीएम अपने साथ डाक्टर को हजरतगंज कोतवाली ले गए। वहां से लौटने के बाद डाक्टर की मौजूदगी में एसीएम ने अलग-अलग जगहों से बर्न के आए चार लोगों के बयान दर्ज किए। इस मामले को लेकर सिविल अस्पताल में घंटों अफरातफरी मची रही।

यूपी में वेलेंटाइन डे पर सिरफिरे आशिक ने प्रेमिका को मारी गोली
बहराइच, सीतापुर सहित अन्य जिलों में कई लोग किसी न किसी वजह से जल गए थे। इन लोगों को सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में लाया गया था। इसकी सूचना पर एसीएम चतुर्थ दलबल के साथ सिविल अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड में पहुंचे थे। इमरजेंसी मेडिकल आफिसर डा. एस अली का आरोप है कि एसीएम सुरक्षाकर्मियों के साथ इमरजेंसी कक्ष में आए थे। मरीजों की जबरदस्त भीड़ थी। भीड़ की वजह से गंभीर मरीजों के इलाज में पहुंच रही बाधा के मद्देनजर एसीएम से सुरक्षाकर्मियो को इमरजेसी कक्ष से बाहर करने का अनुरोध किया।

विधि छात्र की हत्या मामले में मुख्य आरोपी टीटीई विजय शंकर गिरफ्तार

इस पर एसीएम लाल हो गए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए अभद्रता करने लगे। बीच-बचाव की कोशिश करने पर एसीएम द्वारा अन्य स्टाफ के साथ भी बदसलूकी की गई। इसके चलते इमरजेंसी में अफरातफरी मच गई जिससे कई गंभीर मरीजों को दिक्कतें उठानी पड़ी।

कानपुर में बेटे ने पत्नी के साथ मिल की माँ की हत्या, शव को घर में दफनाया
डा. एस अली का आरोप है कि बदसलूकी करने के बाद एसीएम मुझे जबरन गाड़ी में बैठाकर हजरतगंज कोतवाली ले गए। वहां सीओ मौजूद थे। जहां एसीएम ने धमकी दी और अनुचित दबाव बनाया। इसके बाद मुझे लेकर अस्पताल आए और जले लोगों का बयान दर्ज किया।
अस्पताल प्रशासन को दी है लिखित शिकायत
पीड़ित डाक्टर का कहना था कि एसीएम की बदसलूकी से मैं बेहद आहत हूं। धमकी और अपशब्दों के प्रयोग से मुझे मानसिक आघात पहुंचा है। मरीजों का इलाज मेरी प्राथमिकता है जबकि मुझे पता चला है कि एसीएम अपने रवैऐ के चलते पहले भी सुर्खियों में रहे हैं। उनके द्वारा किए गए अभद्र व्यवहार की लिखित शिकायत अस्पताल प्रशासन और एसोशिएशन से की गई है।

मेरठ में अब सावित्री देवी के दामाद की गोली मारकर हत्या

वहीं चिकित्सा अधीक्षक डा. आशुतोष कुमार दूबे का कहना था कि अभी लिखित शिकायत मुझे नहीं मिली है। डाक्टर द्वारा लगाए गए आरोपों के सबध में पूछे जाने पर एसीएम चतुर्थ अमित कुमार का कहना था कि आरोप निराधार है। मेरा डाक्टर से कोई विवाद नहीं हुआ। धमकाने के लिए नहीं बल्कि मरीजों का मेमो देखने के लिए डाक्टर को कोतवाली ले गया था।

कृष्णानगर में मुठभेड़ के दौरान 25,000 का इनामिया बदमाश गिरफ्तार, पैर में लगी गोली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here