Home उत्तर प्रदेश गोद में बच्चा, कंधे पर ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर भटकता रहा पिता, इलाज...

गोद में बच्चा, कंधे पर ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर भटकता रहा पिता, इलाज के लिए करते रहे मिन्नतें

815
1
SHARE

आगरा। चिलचिलाती धूप, मां की गोद में मासूम, बच्चे के मुंह पर ऑक्सीजन मास्क, पिता के कंधे पर ऑक्सीजन का सिलेंडर और बच्चे के इलाज को अस्पताल में चक्कर लगाते लाचार मां-बाप। यह शर्मनाक हकीकत है एसएन मेडिकल कॉलेज के बाल रोग विभाग की। बुधवार को औलाद की जिंदगी के लिए मां-बाप सर्जरी बिल्डिंग से रेडियोलोजी तक और ओपीडी से बाल रोग विभाग तक करीब एक घंटे भटकते रहे।

तूफान व बारिश से राजस्थान, आंध्र प्रदेश और यूपी में 43 की मौत, 100 से ज्यादा घायल
एसएन मेडिकल कॉलेज में बदइंतजामी मरीजों की जान पर भारी पड़ रही है। राजाखेड़ा निवासी सूरज पुत्र रतन सिंह अपनी पत्नी और भाई के साथ आठ माह के बच्चे को लेकर एसएन पहुंचा। बच्चे का पेट फूल रहा था, सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। बाल रोग विभाग ने बच्चे को जांचों के लिए माइक्रोबायोलॉजी विभाग में भेज दिया। फिर यहां से बच्चे को लेकर मां-बाप सिलेंडर कंधे पर रख करीब 400 मीटर पैदल चलकर रेडियोडाइग्नोसिस विभाग पहुंचे। इसके बाद यहां मिन्नते करने पर बच्चे की जांच हुई। फिर बाल रोग विभाग गए, जहां बच्चे को भर्ती किया गया।

बंथरा में तेज रफ्तार टैंकर ने मोटरसाइकिल सवार दो युवकों को रौंदा
मामले की शिकायत पर प्रमुख अधीक्षक डॉ. अजय अग्रवाल ने बाल रोग विभाग से स्पष्टीकरण मांगा है। वहीं बाल रोग के विभागध्यक्ष डॉ. राजेश्वर दयाल का कहना था कि मैं अपना पक्ष प्राचार्य के सामने रख चुका हूं। उन्होंने कुछ भी कहने से मना कर दिया। प्राचार्य डॉ. सरोज सिंह के कार्यालय में संपर्क किया तो वह नहीं थीं।
इस घटना से पूर्व इमरजेंसी में ऑक्सीजन मास्क लगी हालत में बुजुर्ग मां के साथ ऑक्सीजन सिलेंडर कंधे पर रखे बेटे की बेबसी सामने आई थी।
यह है नियम
नियमानुसार, एसएन में ऑक्सीजन सिलेंडर वार्ड ब्वॉय को स्टैंड मशीन से लेकर जाना चाहिए। साथ ही गंभीर बच्चों की जांचें विभाग में ही होनी चाहिए। गंभीर मरीजों के लिए रेडियोलॉजिकल जांचें तत्काल होने की सुविधा है।

तेज रफ्तार प्राइवेट बस ने बारातियों को कुचला, छह लोगों की दर्दनाक मौत

1 COMMENT

  1. […] गोद में बच्चा, कंधे पर ऑक्सीजन सिलेंडर… मूलत: मलिहाबाद निवासी शराफत पारा के बुद्धेश्वर में रहने वाली बहन के घर के पास रहता है। शराफ के आटो चलते हैं। इसके साथ वह प्रापर्टी का भी काम करता है। उसका आलमबाग के सरदारीखेड़ा स्थित गैराज में आटो बन रहा था। बुधवार को वह बाइक से भांजे इमरान के साथ गैराज जा रहा था। सरदारीखेड़ा मार्केट पर तीन लोगों ने उसे रोक लिया। शराफत और तीनों के बीच विवाद शुरू हो गया। मामला बढ़ता देखकर शमीम बाइक लेकर भागने लगा। इस पर तीनों लोगों ने उसे दौड़ा लिया और उस पर फायरिंग कर दी। गोली उसके पीठ और कमर में धंस गई। गोली लगते ही शराफत लहूलुहान होकर गिर गया। […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here