Home क्राइम निलंबित सिपाही आरटीओ बन कर रह था वसूली, दरोगा का हाथ तोड़,...

निलंबित सिपाही आरटीओ बन कर रह था वसूली, दरोगा का हाथ तोड़, थाने में किया नंगा डांस

1319
0
SHARE

पुलिस की मूवर गाड़ी सहित दो प्राइवेट गाड़ियों क्षतिग्रस्त, 8 पुलिसवाले भी घायल
दरोगा अशोक कुमार सिंह का हाथ का पंजा टूटा
लखनऊ| राजधानी के पारा थाना क्षेत्र में एक निलंबित सिपाही और उसका बेटा फर्जी रूप से आरटीओ अधिकारी बनकर कई दिनों से ट्रकों से अवैध वसूली कर रहा था शनिवार की सुबह ट्रक ड्राइवर सरनाम सिंह ने उसे पहचान लिया| उसने इस बात की जानकारी पुलिस को दी| सूचना पाकर SI अशोक कुमार सिंह दल बल के साथ उसे गिरफ्त में लेने के लिए पहुंचे| जहां सिपाही ने पुलिस वालों पर पथराव करना शुरु कर दिया| इस दौरान पुलिस की मूवर गाड़ी सहित दो प्राइवेट गाड़ियों क्षतिग्रस्त हो गई|

चिनहट तिराहे के पास नाले में मिला युवक का शव, हत्या की आशंका

इस हमले में 8 पुलिसवाले भी घायल हो गए| जब पुलिस के जवान उसे थाने ले आए तो वह नशेड़ी का नाटक कर सभी को गंदी-गंदी गालियां और जातिसूचक गालियां देकर थाने में हंगामा करने लगा| उस दौरान उसने अपने सारे कपड़े भी उतार दिए और नंगा होकर पुलिस वालों की ताकत को ललकारने लगा| सीओ आलमबाग ने भी उसे समझाने का प्रयास किया, लेकिन उनसे भी स्थिति नहीं संभाली| काफी मिन्नतों के बाद निलंबित सिपाही कपड़े पहनने को तैयार हुआ जिसके बाद उसका मेडिकल कराने के लिए रानी लक्ष्मी बाई भेजा गया, जहां से डॉक्टरों ने उसे मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया|

यूपी दरोगा भर्ती का एडमिट कार्ड यहाँ से डाउनलोड करें

थाना प्रभारी अजय प्रकाश त्रिपाठी के अनुसार शनिवार की सुबह सतनाम सिंह पुत्र   अमर सिंह निवासी गौरी बाजार सरोजिनी नगर ने पुलिस को सूचना देकर बताया कि महाराज सिंह वह उसका पुत्र जितेंद्र सिंह निवासी आदर्श विहार कॉलोनी आरटीओ का अधिकारी उसे पांच हजार रूपये लुट लिए, लेकिन सुबह का समय होने के कारण उसे कुछ लोगों ने पहचान लिया और हरनाम सिंह को बताया कि यह सिपाही निलंबित में और फर्जी तरीके से उससे पैसा ले लिया है| जिसके बाद हरनाम ने इस बात की जानकारी पुलिस को दी|

अखिलेश सरकार में हुईं इन भर्तियों पर होगी CBI जांच

सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस फोर्स पर निलंबित सिपाही महाराज सिंह ने और उसके पुत्र जितेंद्र सिंह ने पथराव करना शुरू कर दिया| जिसमें सरकारी गाड़ी मूवर सहित दो प्राइवेट गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गए| इसी बीच हरी नाम सिंह ने अपनी गाड़ी से डंडा निकालकर पुलिस वालों पर हमला कर दिया| हमले में सिपाही मनीष यादव, सिपाही मनोज कुमार, सिपाही सगीर अहमद, सिपाही अरुण कुमार, सिपाही धर्मेंद्र
सिंह, सिपाही अजय कुमार, सिपाही विकास, सिपाही गोविंद नारायण सहित दरोगा अशोक कुमार सिंह भी घायल हो गए| डॉक्टरों के अनुसार अशोक के हाथ में पिक्चर हो गया है, वहीं अन्य सिपाहियों को हल्की-फुल्की चोटें आई हैं|

करेले की सब्जी पसंद न आने पर की, मां-बाप की चाकू से गोद कर हत्या

इस संबंध में एसआई अशोक कुमार सिंह की तरफ से महाराज सिंह के खिलाफ भादवि 352,308, 336, 506, 353, 332 IPC सहित अन्य धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराया गया है| साथी ड्राइवर सरनाम सिंह की तरफ से आरोपी कांस्टेबल व उसके पुत्र जितेंद्र सिंह के खिलाफ भादवि 386, 294, 427, 506, 308, 336, 352 आईपीसी का मुकदमा पंजीकृत कराया गया है| हम आपको बता दें इससे पहले भी सिपाही ने केसरबाग थाने में रहकर इन्स्पेक्टर डीके उपाध्याय के खिलाफ षड्यंत्र रचते हुए उन पर मारपीट कर सर फोड़ने का आरोप लगाया था जो बेबुनियाद निकला था| महाराज सिंह इससे पहले भी पारा थाने में तैनात रहा है जहां 2012 में उसे लाइन हाजिर किया गया था|

सेना को राजनीति में उलझाने की जरूरत नहीं : जनरल बिपिन रावत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here