Home उत्तर प्रदेश पारा : तीन लोगों को गोली मारने वाले अभियुक्त को पैसे लेकर...

पारा : तीन लोगों को गोली मारने वाले अभियुक्त को पैसे लेकर डॉक्टर ने बताया नाबालिग

1578
0
SHARE

लखनऊ। जहां एक और डॉक्टरों को हम भगवान का दर्जा देते हैं। वही वह भगवान चंद रुपए के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाता है या यूं कहें कातिल को बचाने के लिए उसे नाबालिग तक घोषित कर देते है। पारा थाना क्षेत्र में बीते 3 दिन पहले होली के दिन एक बदमाश ने तीन लोगों को गोली मारकर घायल कर दिया था। जिसमें दो को इलाज के बाद घर भेज दिया गया था जबकि एक की हालत आज भी ट्रामा सेंटर में गंभीर बनी हुई है।

मुठभेड़ में 50 हजार का इनामी बदमाश अमित उर्फ कलुआ ढेर

पारा पुलिस ने आनन-फानन में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया लेकिन अपराधी ने अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए रानी लक्ष्मी बाई एक डॉक्टर को चंद पैसों में खरीद लिया और अपने आपको डॉक्टरी परीक्षण में नाबालिक साबित करा लिया। जब पारा पुलिस ने आरोपी को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया तो आरोपी को नाबालिक समझकर वह भी अचंभे में पड़ गए जिसके बाद पारा पुलिस से सही जानकारी लेकर हत्यारे को गोसाईगंज जेल भेज दिया।

ग्राम प्रधानी का चुनाव लड़ चुके चैन स्नेचर को आशियाना पुलिस ने दबोचा

विदित हो कि 3 दिन पहले होली के दिन पारा थाना क्षेत्र के हंस खेड़ा में DJ पर हुए विवाद के दौरान व्यापारी नेता लल्लन यादव के छोटे भाई अनिल उर्फ भूरे यादव, भाई पिंटू, साले बबलू को प्रदीप यादव निवासी कलियां खेड़ा काकोरी ने ने गोली मार दी। आनन फानन में तीनों को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। जहां पिंटू और बबलू को प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया। वही अनिल की हालत गंभीर देखते हुए भर्ती कर लिया। पुलिस की माने तो अनिल यादव के चेहरे पर गोली लगी है जिसकी हालत गंभीर बनी हुई है। इस संबंध में अनिल के परिजनों ने पुतान यादव, प्रकाश यादव, प्रदीप यादव व अशोक के खिलाफ हत्या का प्रयास करने का मुकदमा पंजीकृत कराया।

फर्जी मुठभेड़ मामले में कोतवाल समेत 16 पुलिसकर्मियों पर केस दर्ज

पुलिस ने इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी प्रदीप यादव को कलियां खेड़ा से धर दबोचा। लेकिन आरोपी प्रदीप यादव ने रानी लक्ष्मी बाई के डॉक्टर पीसी जैन वरिष्ठ परामर्शदाता बाल रोग विशेषज्ञ को चंद पैसों में खरीद लिया और आपने आपको नाबालिक साबित कराने के लिए डॉक्टरी परीक्षण में उम्र 16 वर्ष करवा लिया। जबकि पारा पुलिस की मानें तो उन्होंने आरोपी की उम्र लगभग 25 वर्ष अपने कागजों में दर्शाया था। विदित हो कि वर्ष 2016 में आरोपी काकोरी थाने से 307 के मामले में जेल जा चुका है उस दौरान वह बालिक था। लेकिन 2 वर्ष बीतने के बाद डॉक्टर ने उसे नाबालिग बता दिया। सूत्रों की माने तो यह सौदा ₹2 लाख में तय हुआ था।

CM योगी ने कसा तंज, बोले- ‘कह रहीम कैसे निभे, केर-बेर को संग’

जानकारों की माने तो किसी भी व्यक्ति की उम्र लिखने से पहले डॉक्टर उसके एक्सरे के आधार पर उसके उम्र का अनुमान लगाता है लेकिन इस मामले में ऐसा कुछ नहीं किया गया। अब इस डॉक्टर के सम्बन्ध में कई भी कुछ नहीं बोलने को तैयार है| सीएमएस आरएलबी और cmo लखनऊ से भी इस मामले में संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने भी कुछ जवाब दिया बिना ही फोन काट दिया|

अलीगढ़ जनपद में हिन्दूवादी नेता पर चाकू से जानलेवा हमला, हालत गंभीर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here