Home लखनऊ Lucknow : पारा जलालपुर में लोगों ने 200 साल पुराना अंग्रेजों का...

Lucknow : पारा जलालपुर में लोगों ने 200 साल पुराना अंग्रेजों का बनाया अंडरपास खोजा

728
0
SHARE

लखनऊ| राजाजीपुरम् के करीब जलालपुर के निवासियों को आवागमन में परेशानी हुई तो सबने मिलकर एक ऐसा अंडरपास खोज निकाला, जिसे 200 साल पहले अंग्रेजों ने बनवाया था। कूड़े व मलबे से पटे इस अंडरपास को चंदा लगाकर साफ कराया गया। रास्ता सामने आने के बाद सभी खुशी से उछल पड़े और फिर पैदन और दोपहिया वाहनों संग आवागमन शुरू कर दिया। अब इसे बेहतर बनाने की मांग शुरू हो गई है।

हमीरपुर : मनमाने समय पर बैंक खोलने से जनता परेशान
इस काम को कर दिखाया है लखनऊ के ही गांव जलालपुर के निवासियों ने तीन महीने पहले गांव के लोगों को 10 हजार रुपये चंदा इकट्ठा किया और पूरा जनसहयोग दिया। जिसकी वजह से कूड़े और गंदगी से पटे इस अंडरपास को साफ कराया जा सका। हालांकि अब भी पूर्ण रूप से आवागमन के लिए यह उपयुक्त नहीं बन पाया है। इसके नीचे से गुजरने वाले दो पहिया वाहन चालकों को दो सीवर की पाइपों के नीचे से होकर गुजरना पड़ता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर यह अंडरपास सही से साफ कर दिया जाये तो आसपास रहने वाले तमाम गांवों के लोगों को राहत मिल जायेगी।

8 गधों ने किये जेल परिसर में लगे पेड़ नष्ट, जेलर ले खिलायी 4 दिन जेल की हवा

स्थानीय लोगों का कहना है कि राजाजीपुरम् में सड़क निर्माण होने के बाद इस अंडरपास में पानी छोड़ दिया गया और लोग गंदगी डालने लग गये। उसके बाद से धीरे-धीरे इसका अस्तित्व खत्म होता चला गया। लोगों को काफी दूर रास्ता तय करके रेलवे क्रासिंग पार करके राजाजीपुरम् जाना पड़ता था।
15 हजार की आबादी को मिलेगा फायदा : राजाजीपुरम् से सटे जलालपुर गांव के आसपास हंसखेड़ा, चुन्नूखेड़ा, मुन्नूखेड़ा, नपतखेड़ा, सदरौना, देवीखेड़ा और देवपुर समेत करीब 15 हजार की आबादी रहती है। समर कनौजिया, शैल कुमारी सिंह, अजीत सिंह व विजया देवी का कहना है कि इस अंडरपास के खुलने से उनको काफी राहत मिल सकती है।

दूसरों को सुरक्षा का पाठ पढ़ाने वाला सिपाही जहरखुरानी का शिकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here