Home क्राइम ठाकुरगंज में लापता 9 वर्षीय बच्ची की रेप के बाद हत्या

ठाकुरगंज में लापता 9 वर्षीय बच्ची की रेप के बाद हत्या

72
0
SHARE

लखनऊ| लखनऊ के ठाकुरगंज स्थित महताब बाग से लापता नौ वर्षीय मासूम बच्ची की रेप के बाद हत्या कर दी गई। रविवार सुबह उसका शव गुलाला घाट के पास झाड़ियों में मिला। उसकी गर्दन व शरीर पर खरोंच के निशान थे और कपड़े अस्त-व्यस्त थे। पुलिस को घटनास्थल के पास से इंजेक्शन व पान के पत्ते मिले हैं।
पीड़ित परिवार का आरोप है कि सुबह जब वह लोग गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने गए तो सिपाहियों ने उनसे रुपयों की मांग की। रुपये न देने पर पुलिस ने बच्ची के पिता की बाइक खड़ी करवा ली। इससे नाराज लोगों ने हंगामा करते हुए पुलिस कर्मियों के साथ धक्का-मुक्की की। भीड़ बढ़ती देख कई थानों की फोर्स बुलवा ली गई। अब पुलिस इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल कर कातिलों की तलाश कर रही है।
मूलत: सीतापुर के लखनीपुर निवासी फल विक्रेता ठाकुरगंज के महताब बाग इलाके में किराये के मकान में रहता है। उसके परिवार में पत्नी, चार बेटे व दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है जबकि 9 वर्षीय छोटी बेटी मदरसे में पढ़ती थी। घरवालों के मुताबिक शनिवार रात करीब 8:30 बजे वह चिप्स लाने की बात कहकर घर से निकली थी। बच्ची के न लौटने पर घरवालों को लगा कि वह मोहल्ले में हो रहे धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने चली गई होगी। पर, जब रात 10 बजे तक वह घर नहीं पहुंची तो परिवार वालों ने उसकी तलाश शुरू की।
परिजनों ने मोहल्ले वालों से पूछताछ की लेकिन किसी ने भी बच्ची को देखने की बात से मना कर दिया। परेशान घरवाले रात भर बच्ची को तलाशते रहे लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला। रविवार सुबह फल विक्रेता की बच्ची के लापता होने के सम्बंध में इलाके की मस्जिदों से ऐलान कराया गया। लोगों से उसे ढूंढने में मदद की अपील की गई। लेकिन, इसके बाद भी उसकी खोज खबर नहीं मिली।
उधर, रविवार सुबह करीब 9 बजे कुछ बच्चे गुलाला घाट के पास क्रिकेट खेल रहे थे। इस दौरान उनकी गेंद झाड़ियों में चली गई। बच्चे जब गेंद की तलाश करते हुए झाड़ियों के पास गए तो वहां बच्ची का शव पड़ा देखा। यह देख बच्चों ने शोर मचाकर लोगों को शव की सूचना दी। इस पर आसपास के लोग मौके पर जुटने लगे। बेटी को ढूंढ रहे घरवालों को जब इसकी सूचना मिली तो वह लोग भी भागकर गुलाला घाट पहुंचे। उन्होंने शव की पहचान कर ली।
घटना की सूचना पर पहुंची ठाकुरगंज पुलिस ने पड़ताल शुरू की। बच्ची के मुंह से झाग निकला हुआ था जबकि गर्दन, हाथ और सीने के पास खरोंच के निशान थे। उसने लाल रंग का कुर्ता व लैगिंग पहनी हुई थी। शरीर पर मौजूद यह कपड़े अस्त-व्यस्त थे। लोगों ने गैंगरेप के बाद बच्ची की हत्या किए जाने की बात कही है। पुलिस ने छानबीन के लिए डॉग स्क्वॉयड को भी बुलवाया। पुलिस का खोजी श्वान घटनास्थल से बच्ची के घर तक गया और फिर वहां रुक गया। पुलिस के मुताबिक बच्ची के घर से घटनास्थल की दूरी करीब 300 मीटर है।
इंस्पेक्टर ठाकुरगंज अंजनी कुमार पाण्डेय ने बताया कि फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल का मुआयना किया। इस दौरान वहां से नशे के इंजेक्शन, सिरिंज, मीठी सुपारी का पैकेट व पान के पत्ते मिले। फोरेंसिक टीम ने यह सारा सामान जब्त कर लिया है। स्थानीय लोगों का कहना है कि शाम को अंधेरा होते ही गुलाला घाट के आसपास नशेड़ियों और जुआरियों का जमावड़ा लग जाता है। अराजक तत्व वहां बैठकर शराब पीते हैं और इसके अलावा तरह-तरह का नशा करते हैं। लोगों का आरोप है कि इसकी जानकारी होने के बाद भी पुलिस नशेड़ियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करती है। पुलिस कर्मी बंधा रोड से गश्त करते हुए निकल जाते हैं लेकिन कभी भी नीचे जाकर पड़ताल नहीं करते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here