Home अन्य खबरें मेडिकल कालेज और कम्पनी के तनातनी में चली गई 60 से अधिक...

मेडिकल कालेज और कम्पनी के तनातनी में चली गई 60 से अधिक मासूमों की जान

157
0
SHARE

लखनऊ। बीआरडी मेडिकल कालेज और पुष्पा सेल्स कम्पनी के बीच हुए लेनदेन का खामिया 60 से अधिक मासूमों के परिवार को भुगतना पड़ा। अस्पताल प्रशासन और कम्पनी के तनातनी के बीच 60 बच्चों को आक्सीजन न मिलने के कारण उनकी जान चली गई। कम्पनी ने अस्पताल प्रशासन को चेताया था कि अगर उन्होंने समय से भुगतान नहीं किया तो आक्सीजन सप्लाई बंद कर देगी। जिसका खामियाजा 60 से अधिक लोगों को जान देकर चूकाना पड़ा। जबकि अस्पताल प्रशासन सात बच्चों की मौत आक्सीजन सप्लाई न होने के कारण बता रहा है।

यह भी पढें:-बीसीसीआई के रवैये से श्रीसंत नाराज, मैं अपना हक मांग रहा हूं
जानकारी अनुसार गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में तीस बच्चों की मौत हुई है। पिछले 36 से 48 घंटों के बीच इन बच्चों की मौत हुई है। इसके पीछे ऑक्सीजन की कमी होना बताया जा रहा है। अस्पताल के सूत्र बताते हैं कि ऑक्सीजन की सप्लाई में गड़बड़ी होने से बच्चों की मौत हुई है। यह अस्पताल प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद में आता है।

यह भी पढें:-ब्लू व्हेल का कहर जारी दो छात्रों ने की खुदकुशी की कोशिश, देखें वीडियो

पिछली 9-10 तारीख को खुद मुख्यमंत्री ने इस अस्पताल का दौरा किया था। उसके बाद भी इस तरह की लापरवाही सामने आई है। हालांकि स्थानीय प्रशासन ने बच्चों की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी है। लेकिन फिलहाल ऑक्सीजन की कमी इसकी वजह बताई जा रही है। अस्पताल के डॉक्टर ने बताया कि कल यानी 10 अगस्त को 23 बच्चों और आज 7 बच्चों की मौत हुई है। ये मौतें आईसीयू में हुई हैं।

यह भी पढें:-योगी का फरमान मदरसों में फहराएं तिरंगा और कराएं वीडियोग्राफी
सांसद कमलेश पासवान ने अस्पताल का दौरा किया। डॉक्टर ने बताया कि 8 से 12 बच्चे रोजाना मरते हैं जापानी बुखार से। मामला इसलिए भी ज्यादा गंभीर हो जाता है कि यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद में हुआ है। मुख्यमंत्री गुरुवार को इस इलाके में दौरे पर भी थे। गुरुवार को 25 बच्चों की मौत हुई है जिसमें 7 बड़े बच्चे थे बाकी 3 दिन और चार दिन के थे।

यह भी पढें:-योगी के संसदीय क्षेत्र में ऑक्सीजन सप्लाई ठप, 30 मरीजों की मौत

ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी का 68 लाख से ज्यादा बकाया था और कंपनी ने चेतावनी दी थी कि अगर भुगतान नहीं किया गया तो सप्लाई बंद कर देंगे। फिर भी भुगतान नहीं किया गया। इसकी वजह से कंपनी ने सप्लाई बंद कर दी। हालांकि इलाके के सांसद का कहना है कि थोड़ी देर के लिए ही सप्लाई बंद की गई थी जिसे बाद में बहाल कर दिया गया और फिलहाल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है।

यह भी पढें:-अपनायें सेक्स के बेहतर तरीके, जानिए कैंसे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here