Home महाराष्ट्र ट्रेन से दो टुकड़ों में बंटा शरीर, जिन्दा होकर बताया पुलिसवालों को...

ट्रेन से दो टुकड़ों में बंटा शरीर, जिन्दा होकर बताया पुलिसवालों को परिचय, देखें विडियो

904
0
SHARE

मुंबई। महाराष्ट्र के नंदूरबार में ऐसी घटना हुई है, जिस पर विश्वास करना आसान नहीं है। नंजूरबार रेलवे स्टेशन पर दो टुकड़ों में बंटे युवक के शरीर का धड़ हिस्सा चंद सेकेंड बाद फिर से जिंदा हो गया और खुद से उठकर पुलिस को अपना नाम-पता बताने लगा। ये मंजर खौफनाक था। ट्रेन से कटने के बाद युवक का शरीर दो हिस्से में बंट चुका था। नीचला हिस्सा पटरियों के बीच और धड़ पटरियों के बाहर था। पुलिस जैसे ही लाश के पास पहुंचीं धड़ का हिस्सा अचानक हाथ के सहारे उठा और टूटते शब्दों में अपना नाम-पता बताते हुए बोला- मैं मालीवाड़ा का संजू हूं।

बाइक लूटकर भाग रहे बदमाशों की पुलिस से मुठभेड़, सिपाही घायल
महाराष्ट्र में नंदूरबार रेलवे स्टेशन पर सोमवार सुबह 10:30 बजे एक शख्स ने मालगाड़ी के आगे कूद कर खुदकुशी कर ली। उसका शरीर दो हिस्सों में बंट गया। मौके पर पहुंचे एक पुलिसकर्मी ने युवक के धड़ को छुआ। तभी उसका धड़ हाथों का सहारा लेकर उठा और टूटते शब्दों में अपना नाम-पता बताते हुए बोला- मैं मालीवाड़ा का संजू हूं। खुद को नंदूरबार का निवासी बताया। हालांकि पुलिस ज्यादा जानकारी प्राप्त करती तब तक उसने दम तोड़ दिया।

देवरिया जनपद में बारात की कार पेड़ से टकराई, चार लोगों की मौत
मृतक की पहचान नंदूरबार निवासी संजय नामदेव मराठे (30) के रूप में हुई है। फिलहाल संजय के खुदकुशी करने की वजह साफ नहीं हुई है। संजय मराठे नंदूरबार में ऑटो चलाता था। संजय के इस कदम की जानकारी दोपहर में मिलने के बाद नंदूरबार के ऑटो चालकों ने संजय मराठे के अंतिम संस्कार तक कामकाज बंद रखा।

योजनाओं में कोताही पर उच्चाधिकारियों की भी तय होगी जवाबदेही : ऊर्जा मंत्री
चंद सेकेंड बाद जिंदा हो गया धड़
घटना की जानकारी मिलने पर रेलवे पुलिस सहायक संजय वसंत तिरगी रेस्क्यू के लिए पहुंचे। देखा कि युवक रेलवे ट्रैक पर पड़ा था। ट्रेन ऊपर से गुजरने की वजह से उसका शरीर दो हिस्सों में कट चुका था। हाथ में हलचल महसूस होने पर मैंने धड़ के हिस्से को उठाने का प्रयास किया तो उसने आंखें खोलीं। मैंने नाम पूछा, तो बोला-‘मालीवाडा का संजू हूं’। इसके 10 मिनट बाद उसकी सांसें थम गईं। मैंने अपने जीवन में ऐसी पहली घटना देखी है।

विस्थापितों के अंतर्द्वंद्व और बचपन की मासूमियत की कहानी है ‘घरवापसी’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here