Home क्राइम लखनऊ पुलिस एसटीएफ की मदद से कर रही शूटरों की तलाश

लखनऊ पुलिस एसटीएफ की मदद से कर रही शूटरों की तलाश

985
0
SHARE

जेल से लेकर गैर जनपदों में कातिलों की तलाश में बिछाया जाल
तारिक हत्याकांड का मामला
लखनऊ। मुन्ना बजरंगी के करीबी मो. तारिक हत्याकांड में तीन दिनों बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची। अब शूटरों तक पहुंचने के लिए स्थानीय पुलिस नहीं राज्य की एसटीएफ पुराने अपराधियों की मदद लेकर कातिलों की गर्दन तक पहुंचने की कोशिश में जुट गई है। जांच में जुटे एक पुलिस अधिकारी का कहना है कि स्थानीय पुलिस घटनास्थल से लेकर अन्य साक्ष्य जुटाने के लिए लगी है,लेकिन पूरे मामले की लीड एसटीएफ कर रही है।

डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद में सबको साथ लेकर चलने की अद्भुत क्षमता थी : राज्यपाल

उन्होंने बताया कि इस तरह की घटनाओं में बड़े गैंग के मामले में एसटीएफ को अधिक जानकारी होती है लिहाजा शूटरों को पकडऩे की जिम्मेदारी एसटीएफ को दी गई है। उधर एसटीएफ की नजर एक बाहुबली विधायक से लेकर जेल में बंद कुछ रसूखदारों के शूटरों पर टिकी है।

हियुवा ने की ‘भंसाली की भत्सना’, फूका पुतला
एएसपी उत्तरी अनुराग वत्स के मुताबिक घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज गहनता से खंगाला गया,लेकिन कोई सुबूत नहीं मिल सका है। उन्होंने बताया कि क्राइम ब्रांच व पुलिस संभावनाओं को जोड़कर काम कर रही है,लेकिन एसटीएफ टीम तह तक पहुंचने के लिए लखनऊ के अलावा गैर जनपदों में जाल बिछा दिया है। पुलिस सूत्रों की मानें तो तारिक की जान किसी छुटभइए गिरोह के सदस्यों ने नहीं ली उसकी जान किसी रसूखदार शख्स के इशारे पर ही की गई है।

मुठभेड़ के दौरान 15000 का इनामिया शातिर बदमाश गिरफ्तार
जेल में तो नहीं रची गई थी साजिश!
झांसी जेल में बंद मुन्ना बजरंगी का दाहिना हाथ माने जाने वाला तारिक को लेकर भले ही पुलिस विभाग में कातिलों की तलाश को लेकर हलचलें तेज चल रही हो। अब एसटीएफ इस दुस्साहसिक वारदात करने वालों शूटरों का नेटवर्क तोडऩे में जुटी है। आशंका जतायी जा रही है कि तारिक की हत्या करने की योजना किसी जेल से रची गई है।

घोटाला : अमेठी होता है खेल-खेल में भ्रष्टाचार!

जानकार सूत्रों की मानें तो तारिक की जान लेने के लिए कई दिनों से शूटर खोज रहे थे,लेकिन वह नहीं मिल रहा था। बताया जा रहा है कि वारदात के दिन राजेश नाम का जो शख्स तारिक के साथ घूम रहा था कहीं उसी तो रैकी नहीं की थी? एक पुलिस अफसर का कहना है कि इससे नाकार नहीं जा सकता और उसकी भी सरगर्मी से तलाश की जा रही है।

तिल के लड्डू तथा तिल मिश्रित खिचड़ी का सेवन बचाएगा ठण्डक से : डॉ. त्रिपाठी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here