Home क्राइम अपराधियों की पनाहगाह बनी राजधानी लखनऊ

अपराधियों की पनाहगाह बनी राजधानी लखनऊ

797
0
SHARE

लखनऊ में शरण लिए हुए था इनामी नरेश भाटी
सरोजनीनगर व पारा पुलिस ने पकड़ा तो खुला भेद
लखनऊ। राजधानी की चकाचौंध में पनाह लेना अपराधियों के लिए काफी आसान हो गया है। यही कारण है कि यूपी के अलग-अलग जिलों में वारदात करने के बाद अपराधी लखनऊ का रूख कर रहे हैं। गुरूवार की देर रात गौतमबुद्धनगर निवासी नरेश भाटी और उसके साथी कुलदीप जाटव की गिर तारी के बाद एक बार फिर यह हकीकत उभर कर सामने आया कि वह कई दिनों से यहां शरण लिए हुए था। गाजियाबाद से लेकर कई जिलों की पुलिस को भी उसकी तलाश थी।

कासगंज हिंसा : जानलेवा धमकी के बाद चंदन गुप्ता के घर की सुरक्षा बढ़ाई गई
सरोजनीनगर व पारा पुलिस को मुठभेड़ के दौरान हत्थे चढ़ा नरेश भाटी पचास हजार का इनामी खूंखार अपराधी है। जानकार सूत्र बताते हैं कि भाटी व उसके साथी कुलदीप जाटव को गाजियाबाद समेत पांच जिलों की पुलिस उसे तलाश कर रही थी। लेकिन वह कई दिनों से लखनऊ में छिपकर रह रहा था और किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था। इंस्पेक्टर सरोजनीनगर धर्मेश कुमार शाही व इंस्पेक्टर पारा अजय प्रकाश त्रिपाठी की टीम ने बुधवार की देर रात नरेश भाटी व उसके साथी कुलदीप को दबोचा तो पता चला कि एक नहीं कई संगीन वारदातों को अंजाम देकर यह फरार चल रहा था। गाजियाबाद पुलिस के अलावा चार जिलों की पुलिस से बचने के लिए कई जगह जाने के बाद आकर लखनऊ आ गया था।

सीवान में ट्रेन से कटकर 4 लोगों की मौत, 1 गंभीर रूप से घायल
इससे पहले भी कई अपराधी यहां पनाह ले चुके हैं
नरेश भाटी ही नहीं है,इससे पहले भी बेखौफ कई अपराधियों ने संगीन घटना करने के बाद राजधानी लखनऊ में ठिकाना बनाया है। बीते दिनों सरोजनीनगर पुलिस के हत्थे चढ़े सीरियल किलर के सदस्यों को गिर तार किया था तो वे भी यहां ठहर कर बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे। हसनगंज तिहरा हत्याकांड हो, विकासनगर दोहरा हत्याकांड हो या फिर गोमतीनगर में हुए मुन्ना बजरंगी के करीबी की हत्या से भी यही सामने आया कि अपराधी आकर राजधानी में रूके और वारदात कर फुर्र हो गए।

गोरखपुर में 50 हजार के इनामी और उसके भाई का एनकाउंटर, दो दरोगा घायल
नहीं बचेंगे अपराधी,धरपकड़ का चल रहा अभियान:एसएसपी
एसएसपी दीपक कुमार का कहना है कि अपराधियों की धरपकड़ के लिए बड़े पैमाने पर अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि चाहे जितना भी न खूंखार अपराधी हो एक भी नहीं बच सकते। उनका कहना है कि टॉनटेन से लेकर इलाकाई सूचीबद्ध बदमाशों की कुंडली की जानकारी एकत्र की जा रही है कि इस समय कौन जेल में है और कौन बाहर आजाद बनकर घूम रहा है,लिहाजा आतंक का आतंक का पर्याय बने बदमाशों को जल्द ही सलाखों के पीछे भेजा जायेगा।

शैक्षिक समस्याओं को लेकर विद्यार्थी परिषद ने किया प्रदर्शन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here