Home लखनऊ काकोरी क्षेत्र में प्रशासन की मिलीभगत से खनन माफिया कर रहे हैं...

काकोरी क्षेत्र में प्रशासन की मिलीभगत से खनन माफिया कर रहे हैं मिट्टी का अवैध रूप से काला कारोबार

545
0
SHARE

काकोरी, लखनऊ । एक और जिला प्रशासन खनन माफियाओं पर शिकंजा कसने का दावा कर रही है। वही दूसरी तरफ़ काकोरी थाना क्षेत्र के हल्का नंबर 4 अंतर्गत ग्राम प्यारेपुर कलिया खेड़ा अजीटन खेड़ा बेगम खेड़ा मे खनन माफिया बिना किसी डर के एलडीए की जमीन पर दिन रात अवैध रूप से खनन करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। यही नहीं उन्हें क्षेत्रीय पुलिस का कोई भी डर नहीं है। दूसरी तरफ मलिहाबाद तहसील के अंतर्गत टिकैतगंज गोला कुआं हरदोई रोड से निकट करीब कई महीने से मिट्टी खनन का काला कारोबार अवैध रूप से चल रहा है। इस विषय में किसी सक्षम अधिकारी से बात की जाती है तो वह अधिकारी अपने आप को बचाते हुए किसी दूसरी अधिकारी पर छोड़ देते हैं यानी कि इस विषय में कोई जानकारी देना उचित नहीं समझते। वहीं दूसरी तरफ ग्राम मलहा में अवैध खनन दिन रात धड़ल्ले से चल रहा है ।
ग्राम मलहा के किसान हरि शंकर की भूमि पर खनन ठेकेदार रात भर चोरी से मिट्टी खनन करके जिमेदार अधिकारियों का मखौल बनाते रहे।
किसानों के अनुसार खनन माफियाओं कॊ स्थानीय पुलिस व उपजिलाधिकारी मलिहाबाद प्रशासन द्वारा खुली छूट दी जा रही है ।खनन माफियाओं कॊ स्थानीय नेताओ का भी संरक्षण प्राप्त है। किसान हरि शंकर, राकेश कुमार, राजेन्द्र कुमार संजय कुमार द्वारा बताया गया की ये जमीन हमारी पुश्तेनी जमीन है। जिसका खसरा संख्या 719 व रकबा साढ़े चार बीघा है। जिसमें खनन माफिया करीब डेढ़ माह पहले इसी तरह मिट्टी चोरी करके खोदा था तब भी हमने उपजिलाधिकारी मलिहाबाद को लिखित शिकायत की थी, लेकिन कोई कार्यवाही नही की गई। बीती रात फिर उक्त नम्बर में खनन माफिया स्थानीय पुलिस व उपजिलाधिकारी लेखपाल की मिलीभगत से चोरी में मिट्टी खोदी जा रही थी। किसान हरिशंकर ने बताया कि सुबह टहलने जब वह गया तो देखा कि उसके खेत में खनन किया जा रहा है। ये देखकर वह दंग रह गया और 100 नम्बर पर पुलिस को सूचना दी। मोके पर पहुंची पुलिस एक को पकड़कर थाने ले आई, लेकिन खनन कर रही जेसीबी मशीन को पुलिस थाने नही लाई। जिससे ये सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्थानीय पुलिस की भी संलिप्तता है। मलहा में जमीनो पर पिछले कई महीनों से परमिट के नाम पर बिना परमिशन के दूसरी जगह अवैध खनन जारी है यही नही खनन ठेकेदार मलहा गांव में जंगल की सरकारी जमीन पर भी धड़ल्ले से खनन कर रहे है । स्थानीय पुलिस व राजस्व विभाग का खनन माफियाओं कॊ मज़बूती से शह मिली हुई है। जिससे खनन ठेकेदार के विरोध में बोलने पर खनन ठेकेदार शिकायत कर्ता के ऊपर हमला और धमकियां देने से भी नही डरते है ।साथ ही पुलिस से मिलकर ग्रामीणों के ऊपर फ़र्ज़ी मुक़दमा लिखा कर दबाव बनाते है। पुलिस शिकायतकर्ता कॊ ही परेशान करने लगते है । इस प्रकार खनन कारोबारियों का हौसला बुलंद हैं कि रात में जंगल व गरीब किसानों की भूमि पर भी खनन करने में नही डरते है और उपजिलाधिकारी व पुलिस भी खनन माफियाओं पर मेहरबान रहती है और प्रशासन भी अपनी आँखे मूंद कर चुपी साधे रहता है जिससे खनन माफिया द्वारा करोङो रुपिया के राजस्व का चुना सरकार को लगा रहे है और खनन का करोबार दिन रात फल फूल रहा है की एक परमिशन की आड़ में कई कई खेतो की मिट्टी निकाली जाती हैं.और मिट्टी इतने बड़े पैमाने पर निकली जा जाती है की खेतों की शक्ल करीब 15 से 20 फिट बड़े बड़े तालाबों का रुप ले लिया है। मलिहाबाद तहसील के अंतर्गत इन गांव में रायल्टी के नाम पर अवैध खनन किया जा रहा है। ग्राम मलहा में खनन कारोबारियों के लिये काकोरी थाना मुफीद साबित हो रहा है। वही दूसरी तरफ़ दूसरे थाने की पुलिस रियल्टी के नाम पर धडलले से पुलिस के सामने से डम्फरो का आवागमन जारी रहता है। इस सम्बन्ध में जब उपजिलाधिकारी मलिहाबाद से बात की गई तो उन्होने कोई जवाब न देते हुए जांच की बात को बताया और कहाँ जाँच करके कार्यवाही की जायेगी। काकोरी थाना प्रभारी निरीक्षक सजंय कुमार ने बताया कि खनन का अलग से विभाग है। किसान की शिकायत पर जांच की जा रही है। साथ ही उक्त प्रकरण से उपजिलाधिकारी मलिहाबाद को अवगत करा दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here