Home लखनऊ राज्यपाल ने महिला कबड्डी प्रतियोगिता की विजेता टीम को ट्राफी देकर सम्मानित...

राज्यपाल ने महिला कबड्डी प्रतियोगिता की विजेता टीम को ट्राफी देकर सम्मानित किया

1145
0
SHARE
महिला कबड्डी प्रतियोगिता

खेल को चुनौती मानकर खेलने का अपना आनन्द है : श्री नाईक
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने आज एस0आर0 गु्रप, बक्शी का तालाब में आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में अंश वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वावधान में सम्पन्न हुई महिला कबड्डी प्रतियोगिता की जूनियर कबड्डी टीम की विजेता क्लब डाभा सेंमर फैजाबाद तथा सीनियर कबड्डी टीम की विजेता लखनऊ सीनियर गल्र्स को ट्राफी देकर सम्मानित किया। राज्यपाल ने कार्यक्रम में कबड्डी लीग की स्मारिका का विमोचन भी किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक अविनाश त्रिवेदी, एस0आर0 गु्रप के वाइस चेयरमैन पियुष सिंह चैहान, श्रद्धा सक्सेना, पवन चैहान, नागेन्द्र बहादुर सिंह सहित बड़ी संख्या में खिलाड़ी एवं विशिष्टजन भी उपस्थित थे।

क्राइम ब्रांच के सिपाही की शादी में पुलिसकर्मियों ने हर्ष फायरिंग
राज्यपाल ने पुरस्कार वितरण समारोह के बाद अपने विचार व्यक्त करते हुये विजयी टीमों का अभिनन्दन किया। उन्होंने कहा कि जब कोई हारता है तभी कोई विजय प्राप्त करता है। कोई प्रतियोगिता ऐसी नहीं है जहाँ दोनों टीमों को जीत मिलती हों। आज की हार कल की जीत हो सकती है। जीतने वालों के लिए जीत बनाये रखना एक चुनौती है। उन्होंने कहा कि खेल को चुनौती मानकर खेलने का अपना आनन्द है।

मां भगवती विद्या मंदिर विद्यालय की क्लास टीचर ने मासूम को पीटा

महिला कबड्डी प्रतियोगिता की जूनियर कबड्डी टीम

श्री नाईक ने कहा कि शरीर और मन को स्वस्थ रखने के लिये खेल आवश्यक है। विश्व में अनेक प्रकार के राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय खेल हैं जिनके अपने महत्व हैं। खेल से संघर्ष की ताकत विकसित होती है। कबड्डी खिलाड़ियों का उत्साहवर्द्धन करते हुये उन्होंने कहा कि कबड्डी का खेल गाँव से शहर फिर शहर से प्रदेश और देश तक की यात्रा तय करता हुआ अब अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच गया है। राज्यपाल ने बताया कि वे स्वयं भी कबड्डी, खो-खो और बास्केट बाल के खिलाड़ी रहे हैं। उन्होंने कहा कि खेल जीवन की चुनौती और कठिनाई से जूझना सिखाता है।

चुनावी रंजिश में मारी गोली, घायल को ट्रामा भेजा
राज्यपाल ने कहा कि देश में महिलायें हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। शैक्षणिक वर्ष 2016-17 में सम्पन्न हुये दीक्षांत समारोह में 15.60 लाख उपाधियाँ प्रदान की गयी हैं जिसमें 51 प्रतिशत छात्रायें हैं तथा 66 प्रतिशत स्वर्ण, रजत एवं कांस्य पदक छात्राओं को मिले हैं। महिला शिक्षा के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश का चित्र बदल रहा है। यह बदलता हुआ चित्र पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा शुरू किये गये ‘सर्व शिक्षा अभियान’ तथा वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं’ योजना का नतीजा है। उन्होंने ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ श्लोक को उद्धृत करते हुये कहा कि निरंतर चलते रहने से सफलता प्राप्त होती है।
महिला कबड्डी लीग के संस्थापक अध्यक्ष नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान ने संस्था की गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुये बताया कि कबड्डी प्रतियोगिता के मैच 25 जनपदों में आयोजित हुये थे। 28 से 30 अप्रैल, 2018 के बीच लखनऊ के के0डी0 सिंह बाबू स्टेडियम में सेमीफाइनल एवं फाइनल मुकाबले हुये।

गोद में बच्चा, कंधे पर ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर भटकता रहा पिता, इलाज के लिए करते रहे मिन्नतें
कार्यक्रम में विधायक अविनाश त्रिवेदी, पवन सिंह चैहान एवं अन्य लोगों द्वारा भी अपने विचार रखे गये। इस अवसर पर राज्यपाल का सम्मान पुष्प गुच्छ, अंग वस्त्र एवं स्मृति चिन्ह देकर किया गया। राज्यपाल ने संस्था की ओर से कबड्डी प्रतियोगिता के आयोजन से जुडे़ महानुभावों को भी सम्मानित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here