Home लखनऊ नहीं हो रही अवैध डेयरियों के खिलाफ कारवाई, संचालकों से मोटी रकम...

नहीं हो रही अवैध डेयरियों के खिलाफ कारवाई, संचालकों से मोटी रकम वसूलते है निगम के कर्मचारी

164
0
SHARE

लखनऊ । अवैध डेयरियों की आड़ में नगर निगम के कर्मचारी मोटी कमाई करने में लगे हुए हैं। अवैध डेयरियों के संचालक मनमाने तरीके से अपने जानवरों को रोड पर छोड़ देते हैं । जिसके कारण आने-जाने वालों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। साथ ही डेयरियों से निकलने वाला गोबर व कचरा को आसपास की जगह पर इकट्ठा कर गंदगी का अंबार फैला देते हैं। जिसके कारण क्षेत्र में गंभीर बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ गया है।
सूत्रों की माने तो एक भैंस के एवज में नगर निगम के कर्मचारी 50 रुपये लेते हैं जिससे आप साफ अंदाजा लगा सकते हैं कि एक डेयरी संचालक के पास लगभग 20 से 50 भैंसिया होती हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि एक अवैध डेयरी संचालक से नगर निगम के कर्मचारी कितना पैसा कमाते हैं। सूत्रों की माने तो इस कमाई का हिस्सा नगर निगम के चीफ डॉक्टर सहित अन्य अधिकारियों को ससम्मान पूर्वक पहुंचाया जाता है।

टीचर ने LKG के छात्र को पहला मारा जोरदार थप्पड़, फिर फोड़ दी पेन से आंख
विदित हो कि जॉन 6 में आने वाला पारा क्षेत्र मैं अवैध डेयरियों का संचालन धड़ल्ले से चल रहा है। इस संबंध में कई बार नगर निगम के कर्मचारियों सहित मौजूदा मेयर को भी अवगत कराया गया लेकिन तमाम शिकायतों के बावजूद इन अवैध डेयरियों के खिलाफ अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई। अवैध डेयरी संचालक सुबह जानवरों का दूध निकालने के बाद उन्हें रोड पर छोड़ देते हैं। जिससे आवागमन में प्रभावित होता है। साथ ही जिस तरफ से यह जानवर निकलते हैं उस तरफ गंदगी का अंबार फैल जाता है। उर्मिला गेस्ट हाउस व स्वर्णिम पब्लिक स्कूल के आस-पास दर्जनों अवैध डेरिया संचालित है जिनसे नगर निगम के कर्मचारी मनमाफिक पैसा वसूलते हैं।

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड के सफेदपोशों को बेनकाब करने की मुहिम तेज

सुविधा शुल्क देने के बाद यह अवैध डेयरी संचालक मनमाने तरीके से अपने जानवरों को रोड पर आवारा घूमने के लिए छोड़ देते हैं जो क्षेत्र में घूम-घूमकर गंदगी फैलाती हैं। अगर कोई क्षेत्रवासी इसका विरोध करता है तो अवैध डेयरी संचालक उसे धमकाते हुए यह रौब दिखाने की कोशिश करते हैं कि उनका सरकार कुछ नहीं बिगाड़ सकती। वह सुविधा शुल्क देकर अपने जानवरों को क्षेत्र में रख रहे हैं। कई बार अवैध डेयरी संचालकों व क्षेत्रवासियों के बीच मारपीट हो चुकी है। उसके बावजूद या डेयरी संचालक नगर निगम कर्मचारियों को मोटी रकम खिलाकर उन्हें चलता करते हैं।
इस संबंध में मेयर साहिबा संयुक्ता भाटिया का कहना है कि समय-समय पर अवैध डेयरियों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है लेकिन कुछ डेयरी संचालकों ने कोर्ट से स्टे ले रखा है। जल्द ही अन्य अवैध डेयरियों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here