Home उत्तर प्रदेश बंडा बवाल: शाहजहांपुर में इंटरनेट सेवाओं पर लगी रोक, 300 लोगों पर...

बंडा बवाल: शाहजहांपुर में इंटरनेट सेवाओं पर लगी रोक, 300 लोगों पर केस दर्ज

553
0
SHARE

शाहजहांपुर | उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के बंडा में शनिवार को हुए बवाल के मामले में फिलहाल तीन मुकदमे दर्ज किए गए हैं। पुलिस की ओर से 300 लोगों पर बवाल करने, वह अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। जिस लड़की की पिटाई से विवाद शुरू हुआ था, उसके पिता की ओर से सेवादार के खिलाफ दलित एक्ट में मुकदमा दर्र्ज किया गया है। वहीँ ताजा जानकारी के मुताबिक शाहजहांपुर में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है. सरकार ने यह रोक बंडा में हुए बवाल को लेकर उठाया है।
बंडा ही नहीं, आसपास भी उपद्रव की थी तैयारी
इससे पहले, बवाल शुरू होने से लेकर देररात तक घरों को जा रहे लोगों को खूब पीटा गया था, ऐसे करीब 25 लोगों ने बंडा थाने में तहरीर दी हैं। पुलिस ने उनका मेडिकल कराया है। साथ ही करीब दस पुलिस कर्मियों का भी मेडिकल सीएचसी में कराया गया है। बवाल के दूसरे दिन बंडा में त्योहारों जैसी रौनक तो नहीं दिखी, चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रही। इस दौरान बहुत ही कम लोगों को आते-जाते देखा गया। दुकानों पर सन्नाटा रहा, लोग अपने घरों में ही कैद रहे। पुलिस का मूवमेंट लगातार रहा। शाम करीब पांच बजे डीएम अमृत त्रिपाठी और एसपी एस चनप्पा बंडा पहुंचे। उन्होंने कस्बे में आरएएफ के साथ रूट मार्च किया। बीच-बीच में आने-जाने वाले लोगों से वह रोक कर बातचीत भी करते रहे। उधर, प्रशासन ने बंडा को 18 सेक्टरों में अफसरों को पूरे माहौल पर नजर बनाए रखने के लिए तैनात किया था, वह 24 घंटे से अपनी ड्यूटी पर कायम दिखे।
व्हाट्स एप ग्रुप एडमिन समेत तीन पर मुकदमा
बंडा में बवाल को बढ़ाने के मकसद से कुछ लोगों ने व्हाटस एप पर कुछ भड़काऊ आडियो-वीडियो जारी किए थे। पुलिस तक यह आडियो और वीडियो पहुंचे तो एक्शन शुरू हो गया। डीएम अमृत त्रिपाठी ने बताया कि पुलिस के जरिए जांच कराई गई। इसके बाद ग्रुप एडमिन और मैसेज को फारवर्ड करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। डीएम ने कहा कि हमारी एक टीम सभी सोशल साइट और व्हाटस ऐप ग्रुप पर नजर रख रही है। अगर किसी ग्रुप में कोई मैसेज आता है तो एडमिन और उसे फारवर्ड करने वाले पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने बताया कि स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है।
क्या है मामला
मामला थाना बंडा कस्बे का है जहां शनिवार को गुरुद्वारे के सामने एक नाबालिग ने राखी की दुकान लगा दी. जब गुरुद्वारे के सेवक ने गेट के सामने से दुकान हटाने को कहा तो दोनों में विवाद हो गया. आरोप है कि सेवादार ने लड़की के पैर पर लाठी मार दी जिससे वह गिर पड़ी। इसके बाद देखते ही देखते ग्रामाीण और सिख समुदाय के लोग सड़कों पर आ गए. सड़क पर नंगी तलवारें लहराई गईं. दोनों पक्षों में जमकर पथराव और फायरिंग हुई. बाद में जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी और पुलिस अधीक्षक एस. चिनप्पा बड़ी संख्या में पुलिस बल लेकर पहुंचे लेकिन स्थिति शांत नहीं हुई. हालात को नियंत्रित करने के लिए रबर की गोली चलाई गई तथा आंसू गैस के गोले छोड़े गए. इसके बावजूद उपद्रवी रुक-रुककर पथराव करते रहे. जब उपद्रवी शांत नहीं हुए तो पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया और हालात पर काबू पाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here