Home क्राइम दिव्यांग को लखनऊ पुलिस ने बताया हत्यारा, CM योगी ने किया था...

दिव्यांग को लखनऊ पुलिस ने बताया हत्यारा, CM योगी ने किया था सम्मानित

556
0
SHARE

लखनऊ | उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की पुलिस अक्सर अपनी कार्यशैली से चर्चा में रहती है। अभी हाल ही में हुए पॉलिटेक्निक की छात्रा संस्कृति राय हत्याकांड में पुलिस ने खूब फजीहत कराई। इसके बाद लखनऊ विश्वविद्यालय बवाल में किरकिरी के बाद सीओ और चौकी इंचार्ज पर कार्रवाई हुई। ये तो दो मामले महज बानगी भर हैं। अभी पिछले दिनों 1090 चौराहे पर हुए मासूम ऋतिक हत्याकांड के खुलासे पर पुलिस के खिलाफ सवाल उठने लगे हैं। कुर्सी बचाने के लिए लखनऊ पुलिस के अफसरों ने सीएम योगी से सम्मानित दिव्यांग को हत्यारोपी बता दिया।

कानपुर में थाने के अंदर चाकू से गोदकर दरोगा की हत्या, एक दिन बाद मिला शव
बता दें कि पिछली 4 जुलाई दिन मंगलवार को राजधानी के 1090 चौराहे पर हजरतगंज के बालू अड्डा निवासी गुब्बारा बेचने वाले 10 साल के मासूम ऋतिक की गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी और लाश चौराहे के पास बने पार्क में लावारिस मिली थी। लखनऊ पुलिस इस घटना के बाद से दबाव में आ गई। घटना की संवेदनशीलता के चलते बुधवार सुबह डीजीपी ओपी सिंह खुद पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे थे। लखनऊ पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए मोहम्मद कलाम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। आरोप है कि कलाम ने हत्या से दो दिन पहले मृतक को न सिर्फ धमकाया था बल्कि उसकी बहन से छेड़खानी तक की थी। लखनऊ पुलिस के इस खुलासे पर सवाल उठने लगे हैं।
फरवरी 2018 में गोमती नदी में आत्महत्या करने के लिए नदी में कूद गई थी। गोमती नदी में कूदी युवती को सैकड़ों लोग डूबते देख रहे थे, लेकिन मोहम्मद कलाम ने अपनी जान की परवाह न करते हुए बिना सोचे समझे नदी में छलांग लगा दी और उस महिला की जान बचाई थी। कलाम की बहन ने फेसबुक पर लिखा है कि उसका भाई उसके लिए पैसे इकठ्ठा करके सबसे बड़ा टेड्डी बियर लाया था और गिफ्ट किया था। उसका भाई हत्यारा नहीं हो सकता। जिस दिव्यांग मोहम्मद कलाम को गिरफ्तार कर लखनऊ पुलिस हत्याकांड के खुलासे की आड़ में वाहवाही लूटने के फिराक में थी, वह दिव्यांग एक बहादुर इंसान है।

जनपद महोबा में कर्ज में डूबे किसान लगा ली फांसी
हत्या के आरोप में गिरफ्तार मोहम्मद कलाम की बहादुरी पर खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उसे रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से नवाजा और उसकी जांबाजी का सम्मान किया था। इतना ही नहीं मोहम्मद कलाम के अच्छा इंसान बनने के लिए पढ़ने की ललक देखकर महिला कल्याण विभाग ने पढ़ाने का जिम्मा तक उठा लिया। गरीबी में जी कर भी बहादुर मोहम्मद कलाम ने दिन में पढ़ाई और रात में गुब्बारे बेचकर पेट पालने का रास्ता चुना था। लखनऊ पुलिस का दावा है कि गुब्बारे बेचने के विवाद में ही मोहम्मद कलाम ने ऋतिक की गला घोंटकर हत्या कर दी थी। वाहवाही लूटने के चक्कर में लखनऊ पुलिस की करतूत ने प्रदेश सरकार और खुद सीएम योगी को कटघरे में खड़ा कर दिया है।

राजाजीपुरम में एफसीआई गोदाम के पास ट्रक में मिला किशोर का शव, हत्या का आरोप
वारदात की शुरुआत में लखनऊ पुलिस ने जो सीसीटीवी फुटेज जारी किया उसमें पैंट शर्ट पहने कंधे पर पिट्ठू बैग लटकाए व्यक्ति पर ही हत्या की आशंका जताई गई थी। लेकिन पुलिस ने जब खुलासा किया तो जिस मोहम्मद कलाम को आरोपी बताया वह दिन में पढ़ाई समाज कल्याण विभाग की मदद से करता है, पढ़ाई के बाद लगी भूख को मिटाने के लिए वो रात में 1090 चौराहे पर गुब्बारे बेचता है। गुरुवार को लखनऊ पुलिस ने जब खुलासा किया तो उस मोहम्मद कलाम को हत्यारोपी बता दिया, जिसके पास पहनने के 2 जोड़ी सही कपड़े नहीं थे। वह बैग लेकर कहां जाएगा और वह बैग कहां से लाएगा। बता दें कि कुर्सी बचाने के लिए लखनऊ पुलिस के अफसरों ने सीएम योगी से सम्मानित दिव्यांग को हत्यारोपी बता दिया।

निवेशकों का सारा पैसा अकेले ही हड़प चाहते है पल्स ग्रुप के सीएमडी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here