Home लखनऊ झारखंड के पूर्व न्यायाधीश ने पुत्र की पुण्यतिथि अनाथ बच्चों के साथ...

झारखंड के पूर्व न्यायाधीश ने पुत्र की पुण्यतिथि अनाथ बच्चों के साथ मनाया

304
0
SHARE

लखनऊ। झारखंड के पूर्व जज व उनकी पत्नी ने अपने बेटे की तृतीय पुण्यतिथि पर मोतीनगर में संचालित निराश्रित बालग्रह के बच्चों को खाना खिला। दोपहर के वक्त जज साहब के साथ आए परिवार के सदस्यों ने भी बच्चों को खाना खिलाकर प्रसन्नता जाहिर की।
झारखंड रामगढ़ के पूर्व प्रधान एवं सत्र न्यायाधीश एवं रजिस्टार सशस्त्र बल अधिकरण क्षेत्रीय न्यायपीठ लखनऊ के केके श्रीवास्तव उनकी पत्नी जया श्रीवास्तव ने अपने इकलौते बेटे की याद में मोतीनगर स्थित उत्तर प्रदेश बाल कल्याण परिषद मोती महल लखनऊ द्वारा संचालित लीलावती मुंशी निराश्रित बालग्रह के बच्चों को दोपहर का भोजन कराया। बच्चों ने दोपहर के समय पूड़ी, सब्जी सहित खीर का लुफ्त उठाया।
3 वर्ष पहले जज साहब कार से परिवार के साथ 21 फरवरी 2016 की रात जमशेदपुर से रांची लौट रहे थे, तभी अचानक रात्रि 12:30 बजे के करीब धड़ाम से जोर की आवाज हुई। माओवादियों द्वारा जलाए गए ट्रक से जज साहब की गाड़ी टकरा गई। इस घटना में उनका पुत्र अभिनव उम्र 17 की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पूर्व जज केके श्रीवास्तव, पत्नी जया श्रीवास्तव, बेटी स्निग्धा श्रीवास्तव गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के 3 वर्ष बीतने के बाद भी जब साहब का परिवार उस घटना को याद कर सहम जाता है। उस घटना में उनके ड्राइवर को हल्की छोटे आई थी, उनकी पुत्री के दोनों पैर फैक्चर हो गए थे। जबकि जज साहब को 8 दिन तक कोमा में रहना पड़ा था। जज साहब की पत्नी जया श्रीवास्तव ने कहा कि उनका बेटा आर्मी अफसर बनना चाहता था। उनका बच्चा झारखंड जेवीएम श्यामली स्कूल में 11वीं की पढ़ाई कर रहा था। आपको बता दें यह वही कॉलेज है जहां से भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने पढ़ाई की थी।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here