Home लखनऊ जानिए क्यों बनाई PGI में तैनात डॉक्टर की फर्जी वोटर आइडी

जानिए क्यों बनाई PGI में तैनात डॉक्टर की फर्जी वोटर आइडी

175
0
SHARE

लखनऊ| एक हत्यारोपित को जमानत दिलवाने के लिए कुछ लोगों ने पीजीआइ में तैनात डॉक्टर राजेश कश्यप की फर्जी वोटर आइडी बना डाली। यही नहीं आरोपितों ने उक्त आइडी को लगाकर हत्यारोपित के पक्ष में तीन लाख 30 हजार रुपये का बंध पत्र भी तैयार कर न्यायालय में दाखिल कर दिया। गुरुवार को जब डॉ. राजेश को इसकी जानकारी हुई तो वह थाने पहुंचे और आरोपितों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई।

NTPC हादसा में मृतकों की संख्या बढ़कर 33 हुई

संजय गांधी पीजीआइ के हीमोटोलॉजी विभाग में कार्यरत डॉ. राजेश कश्यप 4/43 पुराने कैंपस में रहते हैं। डॉक्टर के मुताबिक गुरुवार को वह अस्पताल जाने के लिए निकल रहे थे। इस दौरान गेट पर उन्हें एक लिफाफा पड़ा मिला। लिफाफा खोलकर देखने पर उसमें से उनका फर्जी वोटर आइडी मिला, जिसे देखकर वह दंग रह गए। डॉ. राजेश के मुताबिक उनके नाम व पते का इस्तेमाल कर किसी ने दूसरे का फोटो लगा दिया था और उस आइडी को गुडंबा थाने में दर्ज हत्या के मुकदमे के आरोपित रफीक खान की जमानत के लिए लगाया गया था।

एनटीपीसी हादसा: झुलसे ऐसे की रोने के लिए रही नहीं आंखें…

पीड़ित ने जब वोटर आइडी पर पड़े मतदाता पहचान पत्र नंबर को निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर डाला तो पता चला कि उक्त आइडी पर किसी केश्वर अशरफ का नाम दर्ज है। पीड़ित का कहना है कि किसी महेंद्र प्रताप नाम के वकील हत्यारोपित का केस लड़ रहे हैं और उस आइडी को कोर्ट में दाखिल भी किया जा चुका है। दस्तावेजों पर वकील के हस्ताक्षर और मोबाइल नंबर भी लिखे हुए हैं।

दुराचार का विरोध करने पर विधवा भाभी को जिंदा जलाया

डॉ. राजेश का आरोप है कि कोई साजिश के तहत फर्जी दस्तावेजों का प्रयोग कर उन्हें फंसाने की कोशिश कर रहा है। साथ ही आरोपितों ने उनके नाम और पते की जाली आइडी न्यायालय में दाखिल कर कोर्ट को भी गुमराह किया है। पीड़ित डॉक्टर ने पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है। पुलिस धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर जांच कर रही है।

प्रेमिका की गोद भराई से नाराज युवक ने पिता को मारी गोली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here