Home उत्तर प्रदेश एसडीएम का मुहर्रिर बन वसूली करने वाला गिरफ्तार

एसडीएम का मुहर्रिर बन वसूली करने वाला गिरफ्तार

529
0
SHARE

फैजाबाद | पुलिस की वर्दी में उपजिला मजिस्ट्रेट कोर्ट पर तैनात मुहर्रिर को गिरफ्तार कर लिया गया है। वर्दी सीज करने के साथ ही गंभीर धाराओं में मुकदमा कायम किया गया है। पकड़े गये फर्जी हेड मुहर्रिर ने अपना जुर्म भी कबूला है।
तीन माह पूर्व रुदौली के उप जिलाधिकारी रहे गिरजेश कुमार चौधरी के समय से ही अजय कुमार चतुर्वेदी नामक व्यक्ति कोर्ट पर मुहर्रिर के रूप में पुलिस की वर्दी पहन कर तैनात रहता था।

बलिया जेल में बंद कुख्यात अपराधी चला रहा अपना गैंग, स्वतंत्रता सेनानी को जानमाल का खतरा

पंकज सिंह ने 12 दिसम्बर को जब रुदौली एसडीएम की कुर्सी संभाली। तब उनके साथ भी वह हेड मुहर्रिर के रूप में ड्यूटी करता था। उस पर शक तब पैदा हुआ, जब एसडीएम ने आईडी मांगा लेकिन वह नहीं दिखा सका। इससे पहले रुदौली के कोतवाल जयवीर सिंह यादव से लोगों ने हेड मुहर्रिर के फर्जी होने व अवैध वसूली करने की शिकायत की थी। चंकि आरोप एसडीएम के मुहर्रिर अजय कुमार चतुर्वेदी पर था। इसके चलते कोतवाल मुहर्रिर से पूछताछ करने की हिम्मत नहीं जुटा सके।

गोरखपुर में सरेराह अज्ञात बादमाशों के हमले में घायल युवती ने तोड़ादम
शनिवार को रुदौली के कोतवाल श्री यादव उप जिलाधिकारी के कार्यालय पहुंचे। वहां पुलिस की वर्दी पहने ड्यूटी पर मौजूद तथाकथित हेड मुहर्रिर को आईडी दिखाने के लिए कहा। इस पर हेड मुहर्रिर सकपकाया। तभी कोतवाल ने पूछताछ के लिए उसे गिरफ्तार कर लिया। कोतवाली ले जाकर कड़ाई से पूछताछ शुरू की। पूछताछ में आरोपी मुहर्रिर ने माना कि वह फर्जी है। उसके पास कोई रोजगार नहीं था। ऐसे में फर्जी हेड मुहर्रिर की ड्यूटी करना उसकी मजबूरी थी। कोतवाल जयवीर सिंह यादव ने बताया कि फर्जी हेड मुहर्रिर बनकर ड्यूटी करता पकड़ा गया युवक संतकबीर नगर जिले के खलीलाबाद थाना अंतर्गत लौहरवादेव गांव निवासी अजय कुमार चतुर्वेदी पुत्र ओंकारनाथ है।

बहराइच में पूर्व विधायक के बेटे पर जानलेवा हमला

रुदौली के उप जिलाधिकारी पंकज सिंह ने बताया कि मुहर्रिर पर जब उन्हें शक हुआ तो जांच कराई। जांच में उसके फर्जी होने का सबूत मिला। तभी उन्होंने अपने चैंबर से फर्जी हेड मुहर्रिर को गिरफ्तार करवाया। उप जिलाधिकारी ने बताया उनसे पहले रुदौली के एसडीएम रहे गिरिजेश कुमार चौधरी के कार्यकाल में ही वह यहां हेड मुहर्रिर बनकर आया था। इसी दौरान 12 दिसंबर को उन्होंने रुदौली एसडीएम की कुर्सी संभाली। दो-तीन दिन साथ रहने के बाद उन्हें उस पर शक हुआ। उन्होंने उससे आईडी मांगा लेकिन वह नहीं दिखा सका। इसके बाद उन्होंने पुलिस को सक्रिय कर दिया। उन्होंने बताया कि एसएसपी कार्यालय से उसके दस्तावेज तलब किए गये। तब पता चला कि इस नाम का कोई व्यक्ति हेड मुहर्रिर के पद पर तैनात नहीं है। उन्होंने बताया कि उसकी वर्दी को सीज करते हुए पुलिस ने धारा 171, 419 व 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

कृष्णानगर पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान 4 डकैतों को दबोचा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here