Home उत्तर प्रदेश एटा जनपद में चंद पैसों के लिए हत्यारे आयुर्वेदिक डॉक्टर को बचाने में...

एटा जनपद में चंद पैसों के लिए हत्यारे आयुर्वेदिक डॉक्टर को बचाने में जुटे CMO!

1415
0
SHARE

एटा । एटा जनपद में चंद पैसों के लिए सारे नियमों को ताक पर रखकर DM और CMO एक आयुर्वेदिक डॉक्टर को बचाने में जुटे हुए हैं। वर्ष 2017 में डॉक्टर ने एलोपैथ का इलाज करते हुए मरीज की जान ले ली थी। जिसके संबंध में मृतक के परिजनों द्वारा गैर-इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया था। वही स्वास्थ्य विभाग की टीम और सीएमओ ने खानापूर्ति करते हुए आरोपी डॉक्टर का आयुर्वेद लाइसेंस निरस्त न करते हुए उसके खिलाफ 419, 420 इंडियन मेडिकल एक्ट की कार्रवाई करते हुए मुकदमा पंजीकृत कराया था।

काकोरी : हैंड पंप में आचनक करंट आने से मासूम की मौत

वर्तमान में डॉक्टर धड़ल्ले से अपना क्लीनिक चला रहा है और मरीजों को एलोपैथिक दवा दे रहा है। इस संबंध में मृतक के परिजनों द्वारा सीएमओ से डॉक्टर का आयुर्वेदिक लाइसेंस निरस्त करने को पत्र भेजा गया, तो उन्होंने उसे झोलाछाप डॉक्टर बता कर परिजनों को गुमराह करने का प्रयास में लग गए। जबकि जांच के दौरान मौके पर पाई गई डिग्री आयुर्वेद पद्धति की थी। वहीं पुलिस ने भी मृतक के परिजनों को गुमराह करने का हर संभव प्रयास किया|

त्तर प्रदेश के हरदोई जनपद में मां-बेटी की हत्याकर शव को जलाया

विवेचना के दौरान डॉक्टर के खिलाफ गलत प्रैक्टिस व लैब प्रभारी के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई। पुलिस ने सभी तथ्यों से पल्ला झाड़ते हुए आरोपी डॉक्टर के खिलाफ सिर्फ 304 ए मुकदमा पंजीकृत कर अपना किनारा कर लिया।
विदित हो कि नरेंद्र सिंह पुत्र शिव सिंह निवासी ग्राम हरीसिंहपुर ‘मुरकटी’ के छोटे भाई मुनेंद्र को इलाज के लिए 11 अक्टूबर 2017 को चौथा मील स्थित वैध रामकिशोर हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां डॉक्टर हरिओम शर्मा ने मरीज का ब्लड टेस्ट अपनी लैब महाराजपुर रोड निकट अमरोहा इंटर कॉलेज पर एक अप्रशिक्षित युवक लवकुश से कराया। जिसमें मलेरिया की पुष्टि बताई गई। 2 दिन इलाज के बाद उसके छोटे भाई की हालत बिगड़ने लगी।

बिहार के आरा में बम ब्लास्ट, बड़ी घटना को अंजाम देने आये थे अपराधी

13 अक्टूबर दोपहर 2:30 बजे डॉक्टर द्वारा एक ग्लूकोज की बोतल लगाई गई थोड़ी देर बाद मरीज की हालत बिगड़ने लगी उसे उल्टियां होने लगी, जब नरेंद्र मरीज की हालत हरिओम शर्मा से बताई तो उन्होंने दिलासा देते हुए कहा कि मामूली बुखार है चिंता मत करो मैं सब ठीक कर दूंगा| उसी रात 9:30 बजे हरिओम शर्मा ने मरीज को नहलाने को कहा 1 घंटे बाद मरीज के हाथ पर इकट्ठा होने शुरू हो गए मरीज की जुबान बंद हो गई| जब मरीज की इस हालत से हरिओम को अवगत कराया गया तो हरिओम ने जवाब देते हुए बताया कि बुखार मरीज के दिमाग चढ़ गया है कुछ ही देर बाद ठीक हो जाएगा। फिर रात करीब 1:00 बजे हरिओम शर्मा ने मरीज का  सर, रीढ़ की हड्डी और तलवों पर फ्रिज का बर्फ लगाने को कहा| जिसके बाद मरीज के दिमाग की सूजन हो गई और ब्रेन स्ट्रोक हुआ|

सिविल अस्पताल में डाक्टर और एसीएम में झड़प, अस्पताल में रही घंटों अफरातफरी

अंत में ब्रेन हेमरेज हो गया। रात 2:00 बजे मरीज की हालत बहुत खराब हो गई तो डॉक्टर हरिओम ने हाथ खड़े कर दिए। जिसके बाद मरीज को आगरा स्थित पुष्पांजलि हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर में सुबह 5:00 बजे एडमिट कराया गया। जहां 5:30 बजे मरीज मुनेंद्र कुमार की मौत हो गई। आगरा में इलाज के दौरान जब मरीज का मलेरिया चेकअप कराया गया था तो उस रिपोर्ट में मलेरिया न होने की पुष्टि हुई। भाई की मौत से आहत नरेंद्र डॉक्टर हरिओम वर्मा के खिलाफ जिलाधिकारी एवं एटा सीएमओ से शिकायत की|

यूपी में वेलेंटाइन डे पर सिरफिरे आशिक ने प्रेमिका को मारी गोली

शिकायत के बाद मेडिकल टीम एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापेमारी के दौरान पाया कि डॉक्टर हरिओम वर्मा बीएएमएस का कोर्स किया है और एलोपैथ का इलाज कर रहा है| जिसके आधार पर आरोपी डॉक्टर के खिलाफ 419, 420 इंडियन मेडिकल एक्ट 15 (3) में कार्रवाई की गई, लेकिन डॉक्टरों द्वारा आयुर्वेद की डिग्री निरस्त करने की कोई कार्यवाही नहीं की गई।

विधि छात्र की हत्या मामले में मुख्य आरोपी टीटीई विजय शंकर गिरफ्तार

जब पीड़ित नरेंद्र ने इस संबंध में जिलाधिकारी से शिकायत की तो जिलाधिकारी ने अपने पाले से गेंद निकाल कर सीएमओ के पाले में फेंक दिया और कहाकि आरोपी डॉक्टर हरिओम झोलाछाप डॉक्टर है| इसलिए डिग्री निरस्त करने का कोई सवाल ही नहीं उत्पन्न होता और यह कार्रवाई मैं नहीं कर सकता। लेकिन सीएमओ साहब को कौन समझाए कि आरोपी झोलाछाप डॉक्टर के पास आयुर्वेद चिकित्सा की डिग्री है। जिसे लेकर वह आज भी धड़ल्ले से मरीजों की जान से खेल रहा है और आजाद रुप से घूम रहा है।

हापुड़ में खूनी संघर्ष, युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस चौकी सस्पेंड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here