Home उत्तर प्रदेश नौ से 72 घंटे का कार्यबहिष्कार करेंगे बिजलीकर्मी

नौ से 72 घंटे का कार्यबहिष्कार करेंगे बिजलीकर्मी

1132
0
SHARE

वाराणसी। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर निजीकरण के विरोध में मंगलवार को बिजली कर्मचारियों व अभियंताओं ने चेताया कि सरकार ने आठ अप्रैल तक निजीकरण का फैसला वापस नहीं लिया तो 9 अप्रैल से प्रदेश भर के बिजली कर्मचारी एवं अभियंता 72 घंटे का पूर्ण कार्य बहिष्कार करेंगे। जिसके बाद जनता को होने वाली किसी भी प्रकार की परेशानी के लिए सरकार जिम्मेदार होगी।

इंदिरा नहर में दो युवकों की हत्याकर फेंकी गई लाश बरामद
भिखारीपुर स्थित पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के कार्यालय परिसर में बिजलीकर्मियों ने मंगलवार को 16वें दिन भी धरना-प्रदर्शन जारी रखा। सभा के दौरान पदाधिकारियों ने कहा कि सांसद एवं विधायकों को ज्ञापन दो अभियान के तहत प्रदेश भर में कई सांसद एवं विधायक को ज्ञापन दिए गए हैं। जिसमें कई एमएलसी व विधायकों ने निजीकरण का विरोध किया एवं सरकार को सचेत भी किया कि जिस प्रकार से प्रदेश भर में बिजली कर्मी एवं जनता निजीकरण का विरोध कर रही है, स्थिति कभी भी गम्भीर हो सकती है।

मुख्यमंत्री आवास में बाहर गैंगरेप पीड़िता किया आत्मदाह का प्रयास

दिल्ली में इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेन्ट बिल-2014 एवं निजीकरण के विरोध में देश भर के लाखों कर्मचारियों की ओर से निकाली गयी विशाल रैली में बनारस से भी सैकड़ों कर्मचारी पहुंचे थे। चार अप्रैल को विद्युत प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ में होने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रम का अभियंताओं ने बहिष्कार किया है।
संघर्ष समिति ने यह भी निर्णय लिया कि जब तक निजीकरण का फैसला वापस नहीं लिया जाता है, तब तक किसी भी प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिभाग नहीं करेंगे। निजीकरण के खिलाफ चलाये जा रहे आंदोलन के समर्थन में उतरे विभिन्न संगठनों ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर स्वत: हस्तक्षेप कर निजीकरण के फैसले को वापस लेने की मांग की है। सभा की अध्यक्षता एके श्रीवास्तव तथा संचालन जीउत लाल ने किया।

कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर के पुत्र अरविंद राजभर पर हमला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here