Home क्राइम मुखबिर के साथ पहुंचे दरोगाओं ने ट्रेडिंग व्यापारी के घर में...

मुखबिर के साथ पहुंचे दरोगाओं ने ट्रेडिंग व्यापारी के घर में डाली डकैती

376
0
SHARE

लखनऊ। एक बार फिर राजधानी पुलिस की कार्यशैली ने सभी पुलिसकर्मियों के कार्य पर सवाल खड़े कर दिये है। शनिवार के दिन गोसाईगंज थाना क्षेत्र में पुलिस को मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली की, ओमेक्स सिटी के फैल्ट नम्बर 104 में तीन करोड़ रूपये की ब्लैकमनी रखा है। सूचना पाकर गोसाईगंज थाने में तैनात दो दरोगा व मुखबिर सभी दबिश देने मौके पर पहुंचे गये, फैल्ट में घुसते ही पुलिसकर्मियों ने गार्ड सहित कमरे में मौजूद लोगों को मारना पीटना शुरू कर दिया और रकम का कुछ हिस्सा लूटकर मौके से फरार हो गये। इस सम्बंध में भाजपा मंत्री के करीबी कोयला व्यापारी ने दो दरोगाओं, मुखबिर सहित सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। जब इस बात की जानकारी एसएसपी कलानिधि नैथानी को हुई तो उन्होंने जांच के आदेश दिए। जांच में मामला सही पाए जाने पर दोनों दरोगाओं समेत सात पर डकैती का केस दर्ज किया गया।
शनिवार की सुबह ओमेक्स सिटी में 3 करोड़ की ब्लैकमनी की खबर आग की तरह पुरे शहर में फैल गई। गोसाईगंज में तैनात दरोगा पवन मिश्रा, दरोगा आशीष तिवारी ने पूरे मामले की जानकारी अधिकारियों एवं ईडी को दिये बिना ही लूटे के इरादे से मौके पर पहुंचे गये। उन्होंने ओमेक्स सिटी में तैनात गार्ड की पिटाई करते हुए कोयला व्यवसाई के फ्लैट में घुस गये, फ्लैट में मौजूद लोगों के पिटाई के बाद एक करोड़ 85 लाख रूपये मुखबिर सहित सात लोग मौके से फरार हो गये। मामला एसएसपी के संज्ञान में आते ही उन्होंने एसपी ग्रामीण आईपीएस विक्रांत को मौके पर भेजा। जिसमें यह अस्पष्ट हो पाया कि मुखबिर मधुकर मिश्रा एक बड़ी रकम लेकर मौके से फरार हो गया है। व्यापारी अंकित के अनुसार उसके फ्लैट सेएक करोड़ 85 लाख रुपये गायब। व्यापारी के करीबी भाजपा मंत्री के फोन आते ही सभी अधिकारियों के होश उड़ गये। आनन-फानन में क्राइम ब्रांच द्वारा पुलिसकर्मियों के आवास से 36 लाख रुपये बरामद किये गये। इन्कमटैक्स टीम ने छापेमारी में बरामद रुपये को सील कर दिया है। एक बार फिर वर्दी पहनकर डकैती डालने वाले दरोगाओं का बड़ा खेल सामने आ गया। एसएसपी के आदेश पर दरोगाओं के खिलाफ लूट का मामला पंजीकृत किया गया है। वहीं दोनों दरोगाओं को सस्पेंड कर दिया गया है।
दरोगा पवन मिश्रा, आशीष तिवारी, मुखबिर मधुकर मिश्रा,  कांस्टेबल प्रदीप कुमार भदौरिया,  ड्राइवर पवन यादव ने मिलकर नकदी रूपये पकड़ने की साजिश रची थी। इस मामले में दरोगाओं, मुखबिर सहित सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here