Home क्राइम हेडकांस्टेबल ने लगाया इंस्पेक्टर पर सिर फोड़ने का झूठा आरोप

हेडकांस्टेबल ने लगाया इंस्पेक्टर पर सिर फोड़ने का झूठा आरोप

387
0
SHARE

सीओ की जांच में झूठा निकला मुंशी, अब होगी कार्रवाई
लखनऊ। कैसरबाग इंस्पेक्टर धीरेंद्र कुमार उपाध्याय के खिलाफ थाने के एक हेडकांस्टेबल ने सिर फोड़ने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं हेडकांस्टेबल ने वायरल हुए वीडियो के जरिए मामले को तुल देने प्रयास किया। देर रात हुए हाई वोल्टेज ड्रामे के बीच एसएसपी दीपक कुमार ने कैसरबाग क्षेत्राधिकारी अमित कुमार राय को जांच करने के आदेश दिया। क्षेत्राधिकारी ने सीसीटीवी फुटेज और लोगों की पूछताछ के आधार पर पाया कि हेडकांस्टेबल ने इंस्पेक्टर के खिलाफ झूठा आरोप लगाया है और खुद ही सिर को फोड़ लिया।

दोबारा गैंगरेप करने की धमकी पर लगाई फांसी, अधिकारियों से तलब

कैसरबाग में मुंशी का काम करने वाले महराज सिंह ने इंस्पेक्टर के खिलाफ सरकारी काम के दौरान मारपीट करने के साथ ही सिर फोड़ने का आरोप लगाया तो पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। इतना ही नहीं मुंशी ने पूरी योजना के तहत अपनी घटना का वीडियो भी वायरल कर दिया। जिसमें उसने खुद को चमार बताते हुए इंस्पेक्टर पर एक के बाद एक कई गंभीर आरोप जड़ दिए। बहते हुए खून और खुद को दलित बताते हुए उसने लोगों की सहानुभूति बटोरने का भी प्रयास किया। फिल्म की स्क्रिप्ट की तरह हेडकांस्टेबल ने सरकारी काम के दौरान इंस्पेक्टर के द्वारा मारपीट और क्षमा मांगने के बाद भी सिर फोड़ने की बात कह डाली। मुंशी का वीडियो जब सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने कैसरबाग क्षेत्राधिकारी को मामले की जांच के आदेश दे दिए।

प्रसंग में आई लड़की से दुष्कर्म के आरोप में जैन मुनि शांतिसागर गिरफ्तार

जांच के दौरान क्षेत्राधिकारी ने पाया कि हेडकांस्टेबल ने पूरी योजना के तरीके से इस काम को किया। उन्होंने बताया कि सीसीटीवी फुटेज में देखा गया है कि जब रात में हेडकांस्टेबल थाने से निकल रहा था तब वह पूरी तरह से ठीक था। इसके बाद वह नूर मंजिल की ओर गया यहां पर वह कुछ देर रुका। फिर उसने फोन पर किसी से बातचीत की और अपना हेलमेट उतारा लिया। कुछ ही देर बाद उसने यहीं पर अपना सिर फोड़ लिया। मुंशी को बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। क्षेत्राधिकारी ने बताया कि मुंशी ने इसके पहले भी कई बार बवाल किया था। बीते दिनों एक कॉस्टेबल से भी उसने झगड़ा किया और खुद को हार्ट अटैक बताकर हॉस्पिटल में भर्ती करवा लिया। परिजन भी मौके पर पहुंचे। डॉक्टरों ने जांच किया और उसको फिट बताया। इसके बाद मुंशी ने इंस्पेक्टर से अपनी कारस्तानी के लिए माफी भी मांगी थी। इसी तरह बीते वर्ष कानपुर में तैनाती के दौरान भी उसने अपने उच्च अधिकारियों के साथ अभद्र व्यवहार किया था।
तेज रफ्तार स्कूल वैन अनियंत्रित होकर पलटी, छह से अधिक बच्चे घायल

कैसरबाग इंस्पेक्टर धीरेंद्र कुमार उपाध्याय के खिलाफ मुंशी ने जो आरोप लगाए थे वह जांच के दौरान पूरी तहर से गलत पाए गए हैं। सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि मुंशी महराज सिंह जब थाने से निकला तो वह पूरी तरह से ठीक-ठाक था। इसके बाद वह अपनी बाइक से नूर मंजिल की ओर गया और वहां पर रुक कर किसी को फोन करने लगा। यहीं पर उसने अपना हेलमेट उतारा और खुद ही सि‍र को चोटिल कर लिया। इसके पहले भी मुंशी ने कई बार ऐसे ही उत्पात मचाया है। अपनी जांच रिपोर्ट में सभी बिंदुओं को दर्शाते हुए आज ही इसे एसएसपी को सौंप दूंगा और झूठे आरोप लगाने वाले मुंशी के खिलाफ कार्रवाई की अपील भी की जाएगी।
अमित कुमार राय
सीओ कैसरबाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here