Home दिल्ली साढ़े 4 साल के बच्चे पर बच्ची से रेप का मुकदमा दर्ज

साढ़े 4 साल के बच्चे पर बच्ची से रेप का मुकदमा दर्ज

1014
0
SHARE

नई दिल्ली| पुलिस ने चार साल के बच्चे पर एफआईआर दर्ज की है। बच्चे को दुष्कर्म का आरोपी बताया गया है। द्वारका के एक नामी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे पर यह आरोप कक्षा में पढ़ने वाली एक बच्ची ने लगाया है। परिजनों की शिकायत पर द्वारका साउथ पुलिस ने इस बाबत दुष्कर्म एवं पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पीड़ित बच्ची की काउंसलिंग करवाने के बाद पूरे मामले की छानबीन पुलिस कर रही है।

बिहार : ब्वॉयफ्रेंड का विरोध करने पर करा दी बहन की हत्या
पुलिस सूत्रों ने बताया कि द्वारका स्थित स्कूल में साढ़े चार वर्षीय बच्ची पढ़ती है। बीते 10 नवंबर को छुट्टी के बाद वह जब घर लौटी तो उसने अपनी मां को बताया कि उसके निजी अंग में दर्द हो रहा है। महिला ने बच्ची की इस बात को गंभीरता से नहीं लिया। अगले दिन रात के समय बच्ची जोर-जोर से रोने लगी।

आठ बड़े शहरों में महिला सुरक्षा के लिए बनेगी खास योजनायें
महिला ने जब बेटी से पूछा तो उसने रोते हुए पूरी घटना के बारे में बताया। उसने मां को बताया कि स्कूल में साथ पढ़ने वाले एक बच्चे ने उसके साथ गलत हरकत की है। यह सुनकर महिला सन्न रह गई। इसके बाद परिजन बच्ची को डॉक्टर के पास ले गए, जहां उसका उपचार किया गया। कुछ देर बाद बच्ची मां उसे एक निजी अस्पताल में ले गई, जहां बताया गया कि बच्ची के निजी अंग से छेड़छाड़ की गई है।

दो सगे सालों को बहनोई ने काट डाला, गांव में फैला मातम

बच्ची की मां ने 11 नवम्बर की रात ही बच्ची की शिक्षिका को इस घटना की जानकारी मैसेज से दी। उन्हें बताया गया कि वह 13 नवम्बर (सोमवार) को इस मामले की शिकायत स्कूल आकर करें। वह सोमवार को स्कूल खुलने पर लिखित शिकायत लेकर प्रिंसिपल से मिलीं। उनका आरोप है कि स्कूल ने उनकी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया। इतना ही नहीं उस बच्चे के बारे में भी बताने से इनकार कर दिया, जिसने बच्ची के साथ यह हरकत की।

लेफ्टिनेंट कर्नल की बेटी से रेप में कर्नल गिरफ्तार

द्वारका साउथ पुलिस ने बच्ची के परिजनों की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है। लेकिन आरोप जिस बच्चे पर लगा है, उसकी उम्र महज साढ़े चार साल है। इसलिए पुलिस को इस मामले में आगे कोई कार्यवाही करना बेहद मुश्किल होगा। इसलिए पुलिस अपने स्तर पर मामले की छानबीन में जुटी हुई है। वकील प्रशांत मनचंदा ने कहा कि भारतीय दंड संहिता के सेक्शन 82 के तहत पुलिस को सात साल से कम उम्र के बच्चे पर केस दर्ज करने से बचना चाहिए। इसके अनुसार कम उम्र के बच्चे की बात को अपराध नहीं माना जा सकता है। क्योंकि किसी भी बच्चे का दिमाग पूर्ण तौर पर इतना विकसित नहीं होता है कि वह अपराध करें।

अब मुर्गियों से निकलेगा करंट, चलेंगे घरों के उपकरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here