Home उत्तर प्रदेश खिलौना-गुब्बारा बेचकर की पढ़ाई, बना असफर

खिलौना-गुब्बारा बेचकर की पढ़ाई, बना असफर

107
0
SHARE

गोण्डा। गोण्डा जिला का रहने वाला एक युवक खिलौना और गुब्बारा बेचकर पढ़ाई की और देश का मान बढ़ाते हुए एसएससी की परीक्षा पास कर अफसर बन गया। उसकी इस सफलता पर उसके गांव में खुशी का माहौल है। खास बात यह है कि दुर्गेश ने अपनी सारी पढ़ाई का खर्च खिलौना बेचकर और फेरी लगाकर जुटाया।

यह भी पढें:-जिलाधिकारी ने व्हाट्सएप पर भेजा सुसाइड नोट, फिर ट्रेन से कटकर दी जान
विकास खंड मुजेहना के ग्राम सभा बेसहूपुर के मजरा टेडिय़ा निवासी दुर्गेश वर्मा ने कठिन परिस्थितियों में भी पढ़ाई नहीं छोड़ी। अपनी मेहनत व लगन के दम पर एसएससी द्वारा आयोजित परीक्षा को पहले ही प्रयास में उत्तीर्ण कर 313वां स्थान हासिल कर जिले का मान बढ़ाया है। उनका चयन ग्रुप बी में सांख्यिकी अधिकारी के पद पर हुआ है। पिता राम विलास वर्मा कहते हैं कि मेरा बड़ा बेटा दुर्गेश बचपन से ही प्रतिभावान रहा है।

यह भी पढें:-एसडीएम ने स्कूल प्रवेश द्वार का उद्घाटन
कक्षा 8 तक की शिक्षा तो किसी तरह दिलाने के बाद आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार के सामने बेटे को शिक्षा दिलवा पाना मुश्किल साबित हो रहा था। तब दुर्गेश ने कहा कि बस पिता जी आप अपना आशीर्वाद दीजिए। पढ़ाई का खर्च हम स्वयं उठायेंगे। इसके लिए चाहे जो करना पड़े। वह पढ़ाई के साथ ही क्षेत्र में लगने वाले मेलों में गुब्बारा बेचने लगा। साथ ही साप्ताहिक छुट्टियों में भी फेरी का काम कर पढ़ाई के लिए पैसे एकत्र कर लेता था। उन्होंने बताया कि प्राथमिक स्तर की शिक्षा प्राथमिक विद्यालय रनियापुर में हुई। हाई स्कूल व इंटरमीडिएट की पढ़ाई क्षेत्र के किसान इंटर कॉलेज विद्या नगर मोतीगंज से पूरी करने के बाद नंदिनी नगर पीजी कॉलेज से बीएससी की पढ़ाई पूरी की।

यह भी पढें:-योग सेक्स पावर बढ़ाने में काफी लाभदायक, देखें वीडियो

तीसरे प्रयास में कर्मचारी चयन आयोग द्वारा आयोजित की गई 2016 की परीक्षा में प्रतिभाग किया। बीते दिनों आये रिजल्ट में आल इंडिया 313वीं रैंक हासिल कर ग्रुप बी में जूनियर सांख्यिकी अधिकारी के पद पर चयनित होकर क्षेत्र का मान बढ़ाया है। इनके चयन पर इनकी मां विरना देवी फूली नहीं समा रही है। कहती हैं कि सबके आशीर्वाद से बेटवा कौनौ लायक होय गवा है। दुर्गेश वर्मा इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता व गुरुजनों को दे रहे हैं। इनके चयन पर पूर्व प्रधानाचार्य राममूर्ति गुप्ता, प्रधानाचार्य राधा मोहन पांडेय, अवधेश पाठक, गजराज वर्मा, राम कृपाल वर्मा और राम कैलाश ने घर जाकर बधाई दी।

यह भी पढें:-छात्रा समेत पांच बच्चे रहस्यमय हालात में लापता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here