Home लखनऊ सचिवालय ‘एनेक्सी भवन’ पर चढ़ने लगा भगवा रंग

सचिवालय ‘एनेक्सी भवन’ पर चढ़ने लगा भगवा रंग

58
0
SHARE

लखनऊ| बरसों से बदरंग दिख रहा सचिवालय एनेक्सी भवन अब जल्द नए रंग-रोगन में दिखेगा। इन नए रंगों इसमें सबसे चटख भगवा रंग ही है। भवन की बाहरी दीवारों पर भगवा रंग अब आहिस्ता-आहिस्ता चढ़ने लगा है। जब भवन पर पूरा रंग चढ़ेगा तो काफी खूबसूरत नजर आएगा।

नियम-कानून को ठेंगा दिखा कर किया ट्रान्सफर, अब जवाब देने में कतरा रहें अधिकारी
सचिवालय एनेक्सी भवन शास्त्री भवन के नाम से जाना जाता है। यहां के पांचवे तल पर मुख्यमंत्री व उनके अधिकारी बैठते हैं तो पहले तल पर मुख्य सचिव। इसके अलावा औद्योगिक विकास, गृह, सूचना, नियुक्ति विभाग के बड़े अधिकारी भी यहीं काम करते हैं। सूत्रों के मुताबिक सचिवालय प्रशासन व राज्य संपत्ति विभाग ने इस भवन की रंगाई पुताई कराने का फैसला किया तो नए रंग काम्बीनेशन के साथ प्रस्ताव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व मुख्य सचिव राजीव कुमार को दिखाया गया। दोनों ने इसे काफी पसंद किया। पहले इस भवन पर हल्का क्रीम व भूरे रंग का किनारा रंगा गया था जबकि बाउंड्रीवाल सफेद रंग की थी लेकिन यहां बरसों से रंगाई पुताई नहीं हुई थी।

बिजनौर में लड़की से प्यार करने की सजाए पेड़ से बांध कर चप्पल से पिटाई
कुछ साल पहले रंग बदलने पर हुआ था विवाद
कुछ साल पहले राज्य सम्पत्ति विभाग ने बहुखंडी व विधानभवन में नए रंग में रंगने का फैसला किया था। टेस्ट के तौर पर बहुखंडी भवन की बाहरी दीवारों पर केसरिया रंग लगाया गया। तब इस पर काफी होहल्ला मचा। कांग्रेस ने इस पर विरोध दर्ज कराया। इस पर पुराने रंग में ही रंग दिया गया। यही नहीं पत्थर से बने विधानभवन का रंग बदलने की कोशिश हुई थी लेकिन विरोध होने पर गुंबद व दीवारों को मूल स्वरूप में बने रहने दिया।

घर के भीतर बेटी की गला रेतकर हत्या, पिता ने दी सुसाइड की जानकारी
राज्य संपत्ति अधिकारी योगेश शुक्ला बताते हैं कि हमने रंग संयोजन में केसरिया रंग लिया जो देश के राष्ट्रीय ध्वज में है। शास्त्री भवन की बरसों से रंगाई पुताई नहीं हुई थी। इसीलिए हमने यह बदलाव किया। रंग-रोगन कराने का जिम्मा लोक निर्माण विभाग को दिया गया है। जरूरत पड़ी तो सचिवालय भवन के तहत आने वाले दूसरे भवनों में रंग रोगन कराया जाएगा।

चेन लुटेरों के अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश, पांच गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here