Home लखनऊ पांचवे दिन कमांडेंट का भी गोमती नदी में मिला शव

पांचवे दिन कमांडेंट का भी गोमती नदी में मिला शव

1255
0
SHARE

गोताखोरों की मदद से मिली पुलिस सफलता
मडिय़ांव क्षेत्र में हुई घटना का मामला
लखनऊ। पांच दिन पहले दो बेटों तेजस और वंश के साथ मडिय़ांव क्षेत्र के आईआईएम रोड पर घैला पुल स्थित गोमती नदी में छलांग लगाकर जान देने वाले सीआरपीएफ डिप्टी कमांडेंट विशंभर दयाल का शव काफी कशक्कत बाद पुलिस ने गोताखोरों की मदद से बुधवार को बरामद कर लिया है। जबकि इससे पहले तीन वर्षीय मासूम वंश का शव बरामद हो चुका था,जबकि आठ वर्षीय तेजस उसी दिन किसी तरह नदी से बाहर निकल गया था।

हत्याकर शवों के फेंके जाने का सिलसिला नहीं थम रहा

मलिहाबाद के जगदीशपुर गांव निवासी 46 वर्षीय विशंभर दयाल सरोजनीनगर क्षेत्र के बिजनौर गांव के पास स्थित सीआरपीएफ में बतौर कमान्डेट के पद पर कार्यरत थे और अपनी पत्नी अनुराधा व दो बेटे तेजस्व तथा वंश के साथ मडिय़ांव क्षेत्र के एल्डिको कॉलोनी में रहते थे। विशंभर व उनकी पत्नी अनुराधा के बीच किसी बात को लेकर हुए विवाद के बाद विशंभर ने नाराज होकर शनिवार सुबह तड़के कार में दोनों बेटों को लेकर मडिय़ांव स्थित घैला पुल पर आए और वहीं से पहले तेजस्व को गोमती नदी में फेंक दिया फिर खुद व वंश को लेकर नदी में छलांग लगा दिया था।

अमेठी में बुजुर्ग की गोली मार कर हत्या

मौके पर पहुंची पुलिस गोतोखोरों की मदद से खोजबीन की लेकिन देर तक न तो कमांडेंट मिले और न ही वंश मिल सका था। दूसरे दिन पुलिस ने गोताखोरों की मदद से वंश का शव नदी से बरामद कर लिया था, लेकिन विशंभर का शव नहीं मिल सका था। इसे लेकर पुलिस और परिवार के लोग विशंभर को जिंदा होने की आश्ंका जता रहे थे कि बुधवा को जैसे ही विशंभर का शव गोमती नदी से मिला तो मानों कोहराम मच गया। पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

बलिया : रेलवे फाटक ना खोलने पर केबिनमैन की सर कूचकर हत्या

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here