Home क्राइम अपराध समाप्त हो जाए या रुक जाए ये संभव नहीं : डीजीपी...

अपराध समाप्त हो जाए या रुक जाए ये संभव नहीं : डीजीपी सुलखान सिंह

352
0
SHARE

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया सुलखान सिंह ने अपराधियों के आगे हथियार डाल दिये! योगी सरकार सपना जो उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त बनाने का था। जिसके लिए डीजीपी जावीद अहमद को हटाकर उनके स्थान पर सुलखान सिंह को लगाया गया। जिसके बाद से अपराध की जमीनीं हकीकत दिखने लगी है।

यह भी पढें:-पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति किया गया अवैध निर्माण जमींदोश

उन्होंने जनपद अलीगढ़ में पत्रकारों को बयान देते हुए बताया कि यह सम्भव नहीं है कि अपराध समाप्त किया जा सके। समाज में अपराध होता है आगे भी होता रहेगा। लेकिन उन्होंने विश्वास दिलाया कि अगर अपराध होता है तो अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई/निष्पक्ष कार्रवाई की जायेगी।

यह भी पढें:-प्रिंसपल सेंक्रेटरी मुकुल सिंघल ने किया मेट्रो निरीक्षण
शनिवार को डीजीपी सुलखान सिंह अलीगढ़ में कानून व्यवस्था की समीक्षा करने आये थे। वहीं पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय बनाने के लिए खैर के अंडला में जमीन का निरीक्षण भी किया। जिला प्रशासन ने उन्हें पुलिस प्रशिक्षण के लिए जमीन दिखाई। उन्होंने कहा कि पुलिस को लगातार हाईटेक बनाया जा रहा है। पिछले पांच साल में आधुनिकीकरण हुआ है। उन्हीं सभी योजनाओं को आगे बढ़ाया जा रहा है।

यह भी पढें:-जेलों में धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहे हैं मोबाईल

साइबर क्राइम में मॉडर्न तकनीक का प्रयोग कर रहे हैं। जिससे आगे आने वाली चुनौतियों का समाना कर सकें। ऑन लाइन एफआईआर कराने में लोगों की रुचि बढ़े। इसके लिए प्रचार करने के लिए कहा है।

यह भी पढें:-साथ जाने से मना किया तो दांतों से काटी पत्नी की नाक
उन्होंने पुलिस की खामिया को स्वीकार करते हुए कहा कि अभी ऑन लाइन शिकायतों की संख्या कम है। उम्मीद है कि आगे आने वाले समय में संख्या काफी बढ़ेगी। हाईवे और एक्सप्रेस वे पर सुरक्षा पेट्रोलिंग की व्यवस्था बढ़ा दी गई है। मथुरा-आगरा-हाथरस पर हाईवे के लिए सुरक्षा के इंतजाम किये गये हैं।

यह भी पढें:-महिला शिक्षिका ने छात्र को शराब पिलाकर बनाए शारीरिक संबंध, बनाया वीडियो

डीजीपी ने कहा कि पुलिस के व्यवहार को बेहतर बनाने की कोशिश कर रहे हैं जिससे व्यक्ति की गरिमा को ध्यान में रख कर पुलिस काम करे। जनता का सहयोग मिलेगा और क्राइम पर कंट्रोल भी रहेगा। डीजीपी ने कहा कि कानून व्यवस्था पहले से बहुत बेहतर है। सड़कों पर अनुशासन देख सकते हैं। महिलाएं, बच्ची सुरक्षित हैं। उन्हें सुरक्षा का अहसास है। अगर उनके साथ कोई अपराध होता है तो अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी।

यह भी पढें:-महिला शिक्षिका ने छात्र को शराब पिलाकर बनाए शारीरिक संबंध, बनाया वीडियो
सपा के कार्याकाल से ज्यादा भाजपा के कार्यालय में बढ़े अपराध
अप्रैल-मई 2016 में 101 हत्याएं, 41 बलात्कार, 3 डकैती और 67 लूट जैसी संगीन वारदातें ही हुई थीं। मौजूदा सरकार में इन्हीं दो महीनों में 240 हत्याएं, 179 बलात्कार, 20 डकैती और 273 लूट जैसे संगीन अपराधों को को अंजाम दिया गया। सपा सरकार में दो माह के कार्यकाल के दौरान क्राइम के 212 केस सामने आए थे, जबकि योगी सरकार में ये आंकड़ा 712 केसों तक पहुंच गया।

यह भी पढें:-ट्यूशन टीचर ने किया बच्ची से अश्लील हरकत

यानि आंकड़ों के आधारा पर साफ है कि पूर्ववर्ती सपा सरकार कार्यकाल के मुकाबले योगी सरकार में प्रदेश में संगीन अपराधों के मामले में 195 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई है। आंकड़ों से यह भी साबित हो रहा है कि भाजपा सरकार के लगभग तीन महीने पूरे होने को हैं लेकिन अपराध के ग्राफ में पुलिस प्रशासन बढ़ोतरी को रोकने में नाकामयाब साबित हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here