Home उत्तर प्रदेश सीतापुर जनपद में अस्पताल की बिजली गुल, मोमबत्ती के सहारे हुए प्रसव

सीतापुर जनपद में अस्पताल की बिजली गुल, मोमबत्ती के सहारे हुए प्रसव

568
0
SHARE

महमूदाबाद(सीतापुर) | विद्युत विभाग द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर बकाया लगभग 12 लाख रुपये को लेकर नौ मार्च की देर शाम विद्युत आपूर्ति काट दी गई। जिसके कारण केन्द्र से जुड़े महिला अस्पताल में स्टाफ नर्सों को मोमबत्ती व मोबाइल टार्च की रोशनी से पांच महिलाओं की डिलीवरी रात में करानी पड़ी। वहीं पल्स पोलियो सहित विभिन्न टीकाकरण के लिए रखी गई वैक्सीन के खराब होने का अंदेशा लगा रहा। केन्द्र अधीक्षक ने प्रात:काल जनरेटर के माध्यम से विद्युत सप्लाई कराकर वैक्सीनों की व्यवस्था सुनिश्चित कराई लेकिन महिला अस्पताल में सुबह भी अंधेरा पसरा रहा।

झांसी मेडिकल कॉलेज में मरीज की कटी टांग का बना दिया तकिया, डॉक्टर और स्टॉफ निलम्बित

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र महमूदाबाद पर विद्युत विभाग का लगभग 12 लाख रुपये बकाया है। जिसे स्वास्थ्य विभाग द्वारा जमा न किये जाने के कारण शुक्रवार की देर शाम विद्युत विभाग की टीम ने कनेक्शन काट दिया। जबकि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी लगातार विद्युत विभाग से कहते रहे कि इमरजेंसी सेवाओं को देखते हुए बिजली नहीं काटी जा सकती लेकिन कर्मचारियों ने एसडीओ के आदेश का हवाला देते हुए मदद करने से इनकार कर दिया। देर शाम विद्युत आपूर्ति ठप होते ही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में हड़कम्प मच गया। सीएचसी के फ्रीजर में 11 मार्च से शुरू हो रहे पल्स पोलियो अभियान के लिए 2600 वैक्सीन के साथ-साथ अन्य वैक्सीन रखी थीं। जिनके तापमान के लिए विद्युत आपूर्ति होना जरूरी था।

चारबाग मेट्रो स्टेशन पर मीडिया फोटोग्राफर्स क्लब की प्रदर्शनी में दिखे विविध रंग

विद्युत आपूर्ति कटने से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व इससे जुड़ा महिला चिकित्सालय पूरी रात अंधेरे में डूबा रहा। महिला अस्पताल में भर्ती लगभग आधा दर्जन महिलाऍं परेशान रहीं। वहीं स्टाफ नर्स अर्चना व संगीता गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी को लेकर परेशान रहींं। दोनों नर्सों व अन्य महिला कर्मचारियों ने मोमबती व मोबाइल टार्च की रोशनी में संजू देवी पत्नी पवन, मोहनी पत्नी अनुज कुमार, लक्ष्मी पत्नी ओमप्रकाश, चम्पा पत्नी ओमप्रकाश सहित पांच महिलाओं की डिलीवरी सकुशल सम्पन्न कराई। स्टाफ नर्स अर्चना का कहना था कि लाइट न होने की वजह से मोबाइल टार्च की रोशनी से किसी तरह महिलाओं की डिलीवरी केस कराए गए।

थाने में महिला कांस्टेबल ने नींद की गोलियां खाकर की जान देने की कोशिश

विद्युत कनेक्शन कटने के संबंध में जब सीएचसी अधीक्षक अजय वर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सरकार का स्पष्ट निर्देश है कि इमरजेंसी सेवाओं को देखते हुए विद्युत आपूर्ति बंद नहीं की जा सकती लेकिन विभाग ने अपनी मनमानी के चलते लाइन ठप कर दी और स्टाफ को दिक्कतों में डिलीवरी करानी पड़ी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन को बचाने के लिए प्रात:काल जनरेटर चलवाकर वैक्सीन को मेनटेन रखा जा रहा है।

मृतक के परिजनों ने शव रखकर किया प्रदर्शन, एसओ व एसआई को हटाने की मांग

देर रात ठप की गई सीएचसी व महिला अस्पताल की विद्युत आपूर्ति के बाद मोमबत्ती में हुई डिलीवरी के बावत एसडीओ से पूछे जाने पर महकमे में हड़कम्प मच गया। मीडिया के संज्ञान में आते ही दोपहर करीब 12 बजे विद्युत विभाग हरकत में आया। तत्काल सीएचसी और महिला अस्पताल की विद्युत व्यवस्था बहाल कर दी गई। लेकिन रात भर विद्युत विभाग की संवेदनहीनता से मरीज परेशान होते रहे।

बलिया में केरोसीन डालकर महिला को जिंदा जलाने की कोशिश

एसई के आदेश पर कार्रवाई विद्युत विभाग के एसडीओ शुभम सिंह ने कहा कि अधीक्षण अभियंता के निर्देश पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र महमूदाबाद, सिंचाई विभाग, सब रजिस्टार कार्यालय, ब्लाक रामपुर मथुरा, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चांदपुर, डीटीएच टॉवर की आपूर्ति काट दी गई है। जिसमें से एसडीएम के निर्देश पर पशु चिकित्सालय की आपूर्ति रात में ही बहाल कर दी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here