Home खबरें हटके अस्पतालों में टायफाइड और डायरिया के मरीजों की बढ़ी भीड़

अस्पतालों में टायफाइड और डायरिया के मरीजों की बढ़ी भीड़

72
0
SHARE

हापुड। मौसम के बदलते मिजाज से आम जनमानस बेहाल हो चुका है। चिलचिलाती धूप व गर्म हवाओं के थपेड़ों से लोग विभिन्न बीमारियों के आगोश में आ रहे हैं। संयुक्त जिला अस्पताल में मरीजों की भरमार चल रही है। प्रतिदिन अस्पताल में ओपीडी में दिखाने वाले मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। इस वर्ष अप्रैल माह से ही आसमान से गर्मी शुरू हो गई थी। इसके आगोश में आने से पशु पक्षियों के साथ-साथ आम जनमानस भी बेहाल हो गया है। वहीं प्रकृति के नियम में हुए बदलाव से लोग टायफायड, डायरिया, लू, व पेचिस के शिकार होना शुरू हो गए हैं। इस भीषण गर्मी के मौसम में मरीजों की संख्या में इतना इजाफा हुआ है कि लोगों को अस्पताल में अपने नंबर के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है।

यह भी पढें:-संप्रेक्षण गृह में राज्यमंत्री का छापा: किशोरों की पीड़ा सुनकर बिफरी राज्यमंत्री
सीएमओ एके सिंह ने बताया कि गर्मी के मौसम में डायरिया,टायफायड, लू, पेचिस आदि के मरीजों में बढ़ोत्तरी होती है। ऐसे में बीमारियों से बचने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान दें। साथ ही गर्म हवाओं से बचने की कोशिश करें। थोड़ी सी दिक्कत महसूस होने पर अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सक को दिखाएं।

यह भी पढें:-मात्र 30 दिनों बढ़ाये यौन शक्ति, जानिये कैसे
विभिन्न बीमारियों के लक्षण:
टायफायड-सिरदर्द होना, जी मचलाना, पेट में दर्द होना।
पेचिस-हल्का पेट में दर्द होना, शौच करते समय खून गिरना, बुखार होना, उल्टी
होना।
डायरिया-10 से 12 बार दस्त होना, उल्टी होना, शरीर में दर्द रहना, बुखार होना।
लू-बुखार आना, सिर दर्द होना आदि।
बीमारियों से बचाव के उपाय
बाजार की वस्तुओं का उपयोग न करे।
कटे व सड़े फल का इस्तेमाल न करे।
बासी खाना बिल्कुल न खाए।
काफी देर से खुले में रखे पानी को न पीयें।
किसी भी वस्तु का सेवन करने से पूर्व हाथ को अच्छी तरह से साबुन से धो लें।
खाली पेट धूप में न निकले।
धूप में निकलते समय मुंह व सिर पर गमछा आदि का उपयोग करें।
एक दिन में 20 से 25 गिलास स्वच्छ पानी पीएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here