Home उत्तर प्रदेश कोर्ट परिसर में पत्रकार पर जानलेना हमले के मामले में अधिवक्ता समेत...

कोर्ट परिसर में पत्रकार पर जानलेना हमले के मामले में अधिवक्ता समेत पांच लोगों पर मुकदमा दर्ज

69
0
SHARE

मुरादाबाद। यूपी के मुरादाबाद में थाना सिविल लाइन क्षेत्र में शुक्रवार को एक स्थानीय चैनल के पत्रकार रजत शर्मा के ऊपर कोर्ट परिसर में जानलेना हमला किये जाने के मामले में अधिवक्ता समेत पांच लोगों पर सिविल लाइन्स थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

यह भी पढें:-सेक्स के दौरान पार्टनर को संतुष्ट करना चाहते है तो देखें वीडियो
बता दें शुक्रवार दोपहर में पत्रकार रजत शर्मा पर उस समय हमला कर दिया गया था जब वो एसीएम 4 कोर्ट के बाहर खड़े थे। पत्रकार रजत शर्मा का पड़ोस के रहने वाले अधिवक्ता मनीष प्रताप सिंह से किसी बात को लेकर मनमुटाव चल रहा था। जिसके बाद आज अधिवक्ता ने अपने चार साथियों के साथ मिल कर उसे इतना पीटा की गंभीर और ज़ख्मी अवस्था मे उसे हायर सेंटर मेरठ के लिए रेफर कर दिया गया।

यह भी पढें:-चंद दिनों में पाये सेक्स सम्बंधित समस्याओं निजाद, देखें वीडियो
रजत शर्मा और वकील मनीष प्रताप सिंह आस पास में काशीराम कॉलोनी में रहते हैं। शुक्रवार को रजत शर्मा एसीएम 4 कोर्ट के बाहर मनीष वकील को मिल गया साथ ही वकील के 4 साथी भी मौजूद थे। इससे पहले की रजत कुछ समझ पाता वकीलों ने उसे मारने की नियत से जमकर पीटना शुरू कर दिया। घायल रजत की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है।

यह भी पढें:-आर्गेनिक साबुन, शैम्पू के फायदे जानिये
घायल पत्रकार के चाचा कमल ने बताया कि रजत के ऊपर एक अधिवक्ता मनीष प्रताप सिंह ने अपने 4 अन्य साथियों के साथ मिलकर बेल्ट और धारदार हथियार से जानलेवा हमला कर उसे गंभीर रूप से ज़ख्मी कर दिया है वहीं इस घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी उसका कैमरा व उसकी जेब में रखे 450 रुपये भी लूट कर फरार हो गए।
इस मामले की जानकारी मिलने पर जिले के पत्रकारों में रोष फैल गया और सूचना मिलते ही सभी पत्रकार साथी अधिकारियों से इस मामले में सख्त कार्यवाही किये जाने के लिए दबाव बनाने लगे।

यह भी पढें:-गरम गोश्त का धंधा यूपी की राजधानी लखनऊ में भी

आइपा के चैयरमैन अवधेश पराशर ने कहा कि पत्रकारों पर हो रहे हमले किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किये जायेंगे। जिस प्रकार समाज के चौथे स्तंभ पर हमला किया गया है वो निंदनीय है। प्रशासन इस मामले को गंभीरता से लेकर उचित कार्यवाही करे अन्यथा (आइपा) किसी भी बड़े आंदोलन के लिये बाध्य होगा। उन्होंने आगे कहा कि इंडियन प्रेस एवेयरनेस एसोसिएशन (आइपा) किसी भी पत्रकार का उत्पीडऩ बर्दाश्त नहीं करेगा। साथ ही इस मामले में कोताही बरतने पर आइपा द्वारा 21 मई को मुरादाबाद में समीक्षा करने आ रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को काले झंडे दिखाकर कड़ा विरोध किये जाने की बात कही गई है। इंस्पेक्टर सिविल लाइन्स रविन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, इस मामले में सख्त कार्यवाही की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here