Home लखनऊ डॉक्टरों की लापरवाही से ट्रॉमा सेंटर में मासूम की मौत

डॉक्टरों की लापरवाही से ट्रॉमा सेंटर में मासूम की मौत

153
0
SHARE

परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप
लखनऊ। किंग जार्ज मेडिकल कालेज के ट्रॉमा सेंटर की बदहाल व्यवस्था ने मासूम की जान ले ली। पिता मासूम की जान बचाने के लिए इधर-उधर भटकता रहा लेकिन समुचित इलाज नहीं मिला। ट्रॉमा की बदइंतजामी से मासूम की सांसें थम गई। वहीं ट्रॉमा सेंटर में गंभीर बीमारी से पीडि़त बच्ची को भर्ती नहीं किया।

यह भी पढें:-महिला सिपाही के पति ने धोखे से कराया गर्भपात

पांच घंटे भटकने के बाद जब इलाज नहीं मिला तो परिवारीजनों ने मासूम को गोमतीनगर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया। प्रसव पीड़ा के बाद हरदोई निवासी मुन्नी देवी को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां प्रसव हुआ। प्रसव के बाद शिशु को सांस लेने में तकलीफ हुई। डॉक्टरों ने शिशु को वेंटीलेटर की जरूरत बताई। उसे ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया। परिवारीजन शुक्रवार रात साढ़े 10 बजे शिशु को लेकर ट्रॉमा सेंटर पहुंचे।

जलभराव से शहर की यातायात व्यवस्था ध्वस्त
पिता सीताराम का आरोप है कि डॉक्टरों ने शिशु को भर्ती करने में आनाकानी शुरू कर दी। बेड खाली न होने का बहाना बताया। ऊपर से नीचे तीन घंटे तक दौड़ाते रहे। आखिर में डॉक्टरों ने शिशु को डफरिन अस्पताल रेफर कर दिया। पर, बच्चे की हालत खराब होते देख बेबस परिवारीजन कैजुअल्टी वार्ड के सामने रोने लगे। डॉक्टरों ने रोते-बिलखते परिवारीजनों की फरियाद नहीं सुनी। समय पर इलाज न मिलने से आखिर में शिशु की सांसें थम गई।

यह भी पढें:-ऐसा किया सेक्स कि जान पर बन आई
बिना इलाज ट्रॉमा से मासूम को भगाया
बेबस परिवारीजनों ने शिशु को भर्ती कराया प्राइवेट अस्पताल में लखनऊ। कार्यालय संवाददाता ट्रॉमा सेंटर में डॉक्टरों की संवेदनहीनता ने मासूम की जान खतरे में डाल दी है। असल में मासूम को डॉक्टर ने भर्ती नहीं किया। घंटों भटकाने के बाद बेड खाली न होने की बात कहते हुए शिशु को रेफर कर दिया। निराश परिवारीजनों ने गंभीर हाल में शिशु को गोमतीनगर स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

यह भी पढें:-दरोगा की हत्या के 24 घंटे बाद भी अपराधियों का कोई सुराग नहीं

सुलतानपुर स्थित हलियापुर निवासी मारुतेंद्र प्रताप सिंह की पत्नी शिवांगी की नवजात बेटी को गंभीर हाल में ट्रॉमा सेंटर लाया गया। बच्ची को सांस लेने में परेशानी थी। शुक्रवार सुबह परिवारीजन शिशु को लेकर ट्रॉमा पहुंचे। घंटों डॉक्टरों के सामने मासूम को भर्ती करने की गुहार लगाई। पिता मारूतेंद्र का आरोप है कि डॉक्टरों ने बच्ची को देखा तक नहीं। उसे लोहिया अस्पताल रेफर कर दिया।

यह भी पढें:-नवविवाहिता रोजाना बनाती थी सुहागरात

परिवारीजन शिशु को लेकर लोहिया अस्पताल आए। यहां भी बच्ची को भर्ती नहीं किया। फिर परिवारीजन ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। उखड़ती सांसे देखने के बावजूद डॉक्टरों का दिल नहीं पसीजा। आखिर में परिवारीजनों ने शिशु को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराने का फैसला किया। गोमतीनगर स्थित निजी अस्पताल में शिशु को भर्ती कराया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here